घर घर क्षय रोगी खोजी अभियान शुरू

 घर घर क्षय रोगी खोजी अभियान शुरू



20 फरवरी से सक्रिय क्षय रोगी खोज अभियान शुरू


फतेहपुर। टीबी मरीजों का पता लगाने लिए स्वास्थ्य विभाग की टीम घर.घर क्षय रोगी खोजी अभियान शुरू हो गया है। राष्ट्रीय क्षय उन्मूलन कार्यक्रम के तहत स्वास्थ्य विभाग की ओर से 20 फरवरी से सक्रिय क्षय रोगी खोज अभियान ;एक्टिव केस फाइंडिंग चलाया जाएगा। इसके लिए स्वास्थ्य विभाग ने सभी तैयारियां पूर्ण कर ली हैं। इस अभियान के दौरान स्वास्थ्य विभाग की टीमें घर.घर जाकर संदिग्ध टीबी मरीजों को खोजेंगी। संदिग्ध मरीजों के बलगम के नमूने मौके पर भी लिए जाएंगे। टीबी की पुष्टि के बाद मरीजों का उपचार शुरू होगा।


जिला क्षय रोग अधिकारी डॉण् शहाबुददीन ने बताया कि जनपद में सोमवार से सक्रिय क्षय रोग खोज ;एसीएफद्ध अभियान की शुरुआत की गई है। कुल 120 टीमें घर.घर टीबी रोगियों को खोजेंगी। साथ ही 25 सुपरवाइजर इन टीमों की निगरानी करेंगे। 3 मार्च तक कुल 10 दिन तक अभियान चलेगा। बताया कि सक्रिय क्षय रोग खोज अभियान के दौरान स्वास्थ्य विभाग की टीम जनपद की कुल 20 प्रतिशत आबादी के शहरी एवं ग्रामीण बस्ती तथा हाई रिस्क क्षेत्र में घर.घर जाकर लोगों की स्क्रीनिंग करेगी साथ ही नवोदय विद्यालयए वृद्धा आश्रम आदि में भी विशेष अभियान चलाकर जांच की जाएगी। जो भी संदिग्ध मरीज मिलेगाए टीम उसका मौके पर ही नमूना लेगीए इसके बाद दूसरे सुबह खाली पेट उसी मरीज के बलगम का दूसरा नमूना लिया जाएगाए जिसकी जांच टीबी यूनिट पर कराई जाएगी।


इनसेट 


संदिग्ध मरीजों के बलगम का मौके पर लिया जाएगा नमूना


सीनियर ट्रीटमेंट सुपरवाइजर अजीत ने बताया कि जनपद में 1 जनवरी 2023 से अब तक करीब 236 क्षयरोगियों की खोज की जा चुकी है। उन्होंने बताया की एसटीएस और एसटीएसएलएस के सहयोग से समस्त हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर ;एचडब्ल्यूसीद्ध पर तैनात कम्युनिटी हेल्थ ऑफिसर ;सीएचओद्ध को टीबी के संभावित मरीजों की स्क्रीनिंग के लिए प्रशिक्षित किया जा रहा है। साथ ही बताया कि यदि किसी को दो हफ्ते से ज्यादा समय से खांसी आ रही होए खांसते समय खून आता होए सीने में दर्द तथा बुखार एवं वजन कम होने की शिकायत हो तो वह बलगम की जांच अवश्य कराएं। सरकारी अस्पतालों में यह जांच निशुल्क कराई जाती है।


2025 तक टीबी को करना है जड़ से खत्म


मुख्य चिकित्साधिकारी डॉण् सुनील भारतीय ने बताया कि केंद्र सरकार की 2025 तक टीबी को जड़ से खत्म करने की योजना है। इसी के मद्देनजर अभियान चलाए जा रहे है। हर तीन माह में सक्रिय टीबी रोग खोज अभियान चलाया जाता है। जो भी मरीज निकलते हैए उनका निरूशुल्क उपचार होता है। साथ ही उन्हें पौष्टिक भोजन के लिए प्रतिमाह 500 रुपए की आर्थिक सहायता सीधे बैंक खातों में उपलब्ध कराई जाती है। सीएमओ ने समस्त प्राइवेट डॉक्टरोंए पैथालॉजी संचालकों को भी निर्देशित किया है कि अगर कोई संदिग्ध टीबी रोगी उनके क्लीनिक में आता है तो उसकी सूचना संबंधित नोडल सेंटर या फिर जिला क्षय रोग केंद्र को दें।

टिप्पणियाँ
Popular posts
सर्प ने सात बार काटा सपने में सांप बोला नौंवी बार साथ ले जाएंगे कोई तंत्र मंत्र नही बचा पायेगा
चित्र
बिजली करंट की चपेट में आने से वृद्ध दंपति की दर्दनाक मौत
चित्र
बिजली का पोल टूटा होने के बावजूद जेई ने दबाव बनाकर लाइनमैन से खुलवाया ट्रांसफार्मर हुआ हादसा
चित्र
उम्रकैद की सजा काटकर बाहर आये डकैत का जिंदा सांप को खाते वीडियो वायरल,पुलिस जांच पड़ताल में जुटी
चित्र
हादसा टला:- बारातियों को वापस लेकर लौट रही बोलरो अनियंत्रित होकर टकराई
चित्र