डॉक्टर भीमराव अंबेडकर राजकीय महिला स्नातकोत्तर महाविद्यालय में धूमधाम से मनाया गया अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस डॉक्टर भीमराव अंबेडकर राजकीय महिला स्नातकोत्तर महाविद्यालय में धूमधाम से मनाया गया अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस

 डॉक्टर भीमराव अंबेडकर राजकीय महिला स्नातकोत्तर महाविद्यालय में धूमधाम से मनाया गया अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस

 



फतेहपुर।भीमराव आंबेडकर राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस महाविद्यालय के राष्ट्रीय सेवा योजन प्रकोष्ठ के सौजन्य से  अत्यंत धूमधाम से मनाया गया | कार्यशाला को संबोधित करते हुए प्राचार्य डॉ०  अपर्णा मिश्रा ने कहा कि योग की परंपरा भारत के अत्यंत गौरवशाली परंपरा रही है आज समस्त विश्व ने  स्वस्थ जीवन शैली के लिए  योग के महत्व  को स्वीकार किया है | यही कारण है कि 21  जून को पूरा विश्व अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के रूप में मनाता है।

कार्यशाला की मुख्य अतिथि सभासद श्रीमती सरोजा देवी ने बच्चों  को पढ़ाई के साथ -साथ योग पर भी ध्यान देने को कहा | कार्यशाला में योग विशेषज्ञ श्रीमती ऋतु सिंह ने रोगों से मुक्ति के लिए योग को आवश्यक बताया | अपने कहा कि व्यक्ति समय के अभाव को  कारण बताते हुए योग नहीं करना चाहता | किन्तु बीमार होने पर अस्पताल में भर्ती होने पर समय का नुकसान हो ही जाता है | अतः सबको अपने समय को इस प्रकार व्यवस्थित करना चाहिए कि योगअभ्यास के लिए रोज समय मिल जाए | इस प्रकार वह बीमारियों एवं उसके खर्चों से बच रहेगा  इसके उपरांत उन्होंने योगा प्रोटोकॉल से संबंधित सभी अभ्यास कराए जिसमे ग्रीवा चालान, स्कन्ध संचालन,कटि चालान, घुटन संचालन, वृक्षासन , पाद हस्तासन,त्रिकोणासन, भद्रासन, भुजंगासन, शलभ आसान, ताड़ासन सहित अन्य कई आसान एवं प्राणायाम का अभ्यास कराया | योगअभ्यास में शामिल सभी प्रतिभागियों ने बड़े आनंदपूर्वक विभिन्न आसनों  एवं प्राणायाम का अभ्यास किया | इस अवसर पर योग पर आधारित एक स्लोगन प्रतियोगिता भी आयोजित की गई | राष्ट्रीय सेवा योजना के कार्यक्रम अधिकारी बसंत कुमार मौर्य ने उपस्थित सभी लोगों का आभार व्यक्त किया | इस अवसर पर डॉ०  गुलशन सक्सेना, डॉ०  शकुंतला, डॉ०  लक्ष्मीना भारती, डॉ०  प्रशांत द्विवेदी, डॉ०  उत्तम कुमार शुक्ल, डॉ०  रेखा वर्मा, डॉ०  चारु मिश्रा,श्रीमती विदेह वर्मा,डॉ०  ज्योति, डॉ०  चंद्रभूषण, डॉ०  राजकुमार,डॉ०  आनंद नाथ सहित सभी प्राध्यापक एवं कर्मचारी गण उपस्थित रहे |

टिप्पणियाँ