इकलौते भाई को जान से मार देने के बाद बहन का दर्द:पीड़िता बोली-भाई की हत्या की कर एक्सीडेंट का दिया गया था रूप, पुलिस अभी भी नही दर्ज की एफआईआर

 इकलौते भाई को जान से मार देने के बाद बहन का दर्द:पीड़िता बोली-भाई की हत्या की कर एक्सीडेंट का दिया गया था रूप, पुलिस अभी भी नही दर्ज की एफआईआर



पिता बहन और मां दर-दर भटकने को मजबूर नही मिल रहा न्याय


फतेहपुर। हिमांशु को जान से मार देने का लगाया आरोप कहा मेरे भाई को जान से मारकर एक्सीडेंट का रूप दिया गया है पुलिस अभी भी एफआईआर दर्ज कर आरोपियों को गिरफ्तार करने को राजी नही।

जनपद के हुसेनगंज थाना क्षेत्र अंतर्गत अभैइया गांव निवासी आकांक्षा ने बताया कि बीते 8 जून को मेरा भाई हिमांशु मुझे स्कूटी से डॉक्टर भीमराव अंबेडकर महिला डिग्री कॉलेज पेपर दिलवाने गया था तभी गेट के सामने भाई स्कूटी खड़ी करने लगा कि उसी समय   बहलोलपुर निवासी शिवम पटेल पुत्र उमेश पटेल व कसेरुवा निवासी अतुल दिवेदी पुत्र विनोद कुमार भाई के पास आकर पुरानी रंजिश मानते हुए धोखाधड़ी कर कोलड्रिंक पिलाने के बहाने मोटर साइकिल से लेकर जा रहे थे पूछने पर कहा आप पेपर देने जाओ मैं आ रहा हूं चले गए और राधानगर ढकौली के एक जंगल में जान से मारकर शव को छिपाने के लिए आ ही रहे थे की तभी साजिश कर सीसीटीवी कैमरे के सामने मोटर साइकिल को फिसलाकर एक्सीडेंट कर देने का रूप दिया गया फिर दोनो मेरे भाई को छोड़कर पास में ही खड़ी चार में बैठकर फरार हो गए फिलहाल पीड़ित आकांक्षा और उसके पिता राजकुमार और उसकी मां दर-दर भटकने को मजबूर है उनका कहना है कि पुलिस इस मामले में अभी भी एफआईआर नही लिख रही मंगलवार को जिलाधिकार व पुलिस कप्तान को शिकायती पत्र देकर न्याय की गुहार लगाई है।

टिप्पणियाँ