भारतीय इसरो निजी क्षेत्र के छोटे उपग्रह प्रक्षेपण के लिए समर्पित स्पेसपोर्ट स्थापित करेगा
भारतीय इसरो निजी क्षेत्र के छोटे उपग्रह प्रक्षेपण के लिए समर्पित स्पेसपोर्ट स्थापित करेगा

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) का दूसरा स्पेसपोर्ट, जो विशेष रूप से निजी क्षेत्र द्वारा विकसित छोटे उपग्रह प्रक्षेपण वाहनों (एसएसएलवी) के लिए समर्पित होगा, तमिलनाडु के थूथुकुडी जिले के कुलसेकरपट्टिनम में लगभग दो वर्षों में बनेगा।
10 अक्टूबर को, भारतीय राष्ट्रीय अंतरिक्ष संवर्धन और प्राधिकरण केंद्र (IN-SPACe) के अध्यक्ष डॉ. पवन गोयनका ने कहा, “हम थूथुकुडी जिले में एक पूर्ण प्रक्षेपण केंद्र विकसित कर रहे हैं, जो एसएसएलवी लॉन्च के लिए समर्पित होगा। अभी करीब 2,000 एकड़ जमीन का अधिग्रहण कर इसरो को सौंप दिया गया है। प्रोजेक्ट टीम तैयार है, बजट परिभाषित हो चुका है, योजना बन चुकी है और अब से लगभग दो साल में हम इसे शुरू कर देंगे।''
डॉ. गोयनका ने कहा कि इस लॉन्च पैड का उपयोग केवल निजी क्षेत्र द्वारा किया जाएगा। “यह केवल निजी क्षेत्र के लिए उपयोगी है क्योंकि वहां से कोई इसरो रॉकेट लॉन्च नहीं किया जाएगा। एसएसएलवी को पूरी तरह से निजी क्षेत्र में स्थानांतरित कर दिया जाएगा, ”डॉ. गोयनका ने कहा।
एसएसएलवी एक 3-चरणीय प्रक्षेपण यान है जो 500 किलोमीटर की समतल कक्षा में लगभग 500 किलोग्राम के उपग्रहों को लॉन्च करने में सक्षम है। इसरो के अनुसार, एसएसएलवी की प्रमुख विशेषताएं कम लागत, कम टर्नअराउंड समय, कई उपग्रहों को समायोजित करने में लचीलापन, लॉन्च-ऑन-डिमांड व्यवहार्यता और न्यूनतम लॉन्च बुनियादी ढांचे की आवश्यकताएं हैं।
स्पेसपोर्ट के पास बनेगा मैन्युफैक्चरिंग पार्क
डॉ. गोयनका ने यह भी कहा कि कुलसेकरपट्टिनम में स्पेसपोर्ट के पास एक छोटा अंतरिक्ष विनिर्माण पार्क भी बनेगा।
वर्तमान में, इसरो के पास एक अंतरिक्ष स्टेशन है - श्रीहरिकोटा में सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र - जिसमें दो लॉन्च पैड हैं जहां से पीएसएलवी और एलएमवी 3 के रॉकेट लॉन्चिंग ऑपरेशन किए जाते हैं।
टिप्पणियाँ
Popular posts
वर्षा/ ओलावृष्टि के कारण भेडो में मची भगदड़ के चलते 167 भेडो की मौत जबकि 16 भेडे घायल
चित्र
यूपीएससी में हुआ किसान के बेटे का चयन,किया गांव का नाम रोशन
चित्र
व्यापारी के साथ हुई मारपीट कांड की डीसीपी ने की जांच पडताल
चित्र
पत्नी द्वारा लगाए गए आरोप को पति ने बताया मनगढ़ंत कहानी
चित्र
पत्नी के नाम खरीदी प्रॉपर्टी पर परिवार का भी हक, मकान-जमीन रजिस्ट्री कराने से पहले जान लें HC का फैसला
चित्र