10वीं और 12वीं का परीक्षा शुल्क नहीं होगा माफ, सुप्रीम कोर्ट में याचिका खारिज

नई दिल्ली,  सुप्रीम कोर्ट ने कोविड के मद्देनजर मौजूदा अकादमिक वर्ष में 10वीं और 12वीं कक्षा के सीबीएसइ (CBSE) छात्रों के लिए परीक्षा शुल्क माफ किए जाने का अनुरोध करने वाली याचिका खारिज कर दी है। इस याचिका में परीक्षा शुल्क माफ करने के लिए सीबीएसइ और दिल्ली सरकार को निर्देश देने की मांग की गई थी, जिसे कोर्ट ने मंगलवार को खारिज कर दिया है।











जस्टिस अशोक भूषण, आर सुभाष रेड्डी और एम आर शाह की बेंच ने एनजीओ 'सोशल ज्यूरिस्ट' की तरफ से दायर याचिका खारिज कर दी है। इस याचिका में कोविड और गंभीर आर्थिक स्थिति का सामना कर रहे अभिभावकों का हवाला देते हुए फीस माफी की मांग की गई थी। याचिका में दिल्ली हाई कोर्ट के 28 सितंबर के आदेश को चुनौती दी गई थी। कोर्ट ने फैसला सुनाते हुए कहा कि अदालत सरकार को ऐसा करने का निर्देश कैसे दे सकती है। आपको सरकार को एक प्रतिनिधित्व देना चाहिए। साथ ही कोर्ट ने याचिका खारिज कर दी।


इससे पहले दिल्ली हाई कोर्ट ने आप सरकार और सीबीएसइ को जनहित याचिका को एक प्रतिनिधित्व के रूप में मानने और कानून, नियमों, विनियमों और मामले के तथ्यों पर लागू सरकार की नीति के अनुसार तीन सप्ताह के अंदर निर्णय लेने के लिए कहा था।


वहीं याचिका में अपील की गई थी कि COVID-19 लॉकडाउन के कारण, अभिभावकों को सैलरी ना मिलने के कारण उन्हें अपने परिवारों के लिए भोजन की व्यवस्था करना भी मुश्किल हो गया है। ऐसे में उच्च न्यायालय के आदेश से देश के 30 लाख छात्रों के लिए मुश्किल खड़ी हो गई है जिसमें से तीन लाख छात्र अकेले दिल्ली में हैं।


वकील अशोक अग्रवाल के माध्यम से दायर याचिका में कहा गया है कि या तो सीबीएसइ को परीक्षा शुल्क माफ करने के लिए निर्देशित किया जाए या फिर केंद्र सरकार पीएम केयर फंड से इस पैसे का भुगतान करे। इसके अलावा कहा गया कि दिल्ली के छात्रों के लिए आप सरकार को भी ऐसा करने के लिए कहा जा सकता है।


इसके साथ ही याचिका में 2020-21 सत्र में परीक्षा शुल्क बढ़ाए जाने का भी हवाला दिया गया है। इसके मुताबिक 2018-19 सत्र में दसवीं/बारहवीं कक्षा के छात्रों का सीबीएसइ परीक्षा शुल्क बहुत मामूली था, लेकिन वर्ष 2019-20 में सीबीएसइ ने परीक्षा शुल्क में कई गुना वृद्धि की। याचिका में कहा गया है कि वर्तमान वर्ष 2020-21 में, सीबीएसइ ने दसवीं कक्षा के छात्रों से 1,500 रुपये से 1,800 रुपये और कक्षा 12 वीं के छात्रों से 1,500 रुपये से 2,400 रुपये तक विषयों की संख्या, प्रैक्टिकल आदि के आधार पर परीक्षा शुल्क की मांग की है।बता दें कि पिछले शैक्षणिक वर्ष में, दिल्ली सरकार ने दसवीं और बारहवीं कक्षा के सीबीएसइ के छात्रों के परीक्षा शुल्क का भुगतान किया था, लेकिन 2020-21 में उसने वित्तीय संकट का हवाला देते हुए ऐसा करने से इनकार कर दिया है। एनजीओ ने कोर्ट से शुल्क माफ करने के लिए सीबीएसइ को निर्देश देने या केंद्र को पीएम केयर फंड या किसी अन्य उपलब्ध संसाधनों से फीस का भुगतान करने का निर्देश देने की अपील की थी।


Popular posts
अब बुजुर्गों और माता पिता की देखभाल के लिए मिलेगा 10 हजार रुपये, मोदी सरकार बदलेगी नियम न्यूज़।माता-पिता और बुजुर्गों की देखरेख के लिए अब केंद्र सरकार नया नियम लाने जा रही है. दरअसल, मेंटनेंस और वेलफेयर ऑफ पेरेंट्स और सीनियर सिटिजन (अमेंडमेंट) बिल 2019 पर मानसून सत्र में फैसला लिया जा सकता है. बता दें कि सोमवार से ही मानसून सत्र शुरू हो चुका है। वेलफेयर ऑफ पेरेंट्स और सीनियर सिटिजन (अमेंडमेंट) बिल 2019 केंद्र सरकार के एजेंडा में काफी समय से था. मानसून सत्र की शुरुआत में ही केंद्र सरकार इस बिल को लेना चाहती है. दिसंबर 2019 में पास कर दिया गया था ये नियम। वेलफेयर ऑफ पेरेंट्स और सीनियर सिटिजन बिल कैबिनेट ने दिसंबर 2019 में पास कर दिया था। इस बिल का मकसद लोगों को माता-पिता और वरिष्ठ नागरिकों को छोड़ने से रोकना है। विधेयक में माता-पिता और वरिष्ठ नागरिकों की बुनियादी जरूरतों, सुरक्षा और सुरक्षा को सुनिश्चित करने के साथ उनके भरण-पोषण और कल्याण का प्रावधान बनाया गया है। देश में कोविड-19 महामारी की दो विनाशकारी लहरों के मद्देनज़र आने वाला यह विधेयक मौजूदा सत्र में संसद द्वारा पास होने पर वरिष्ठ नागरिकों और अभिभावकों को अधिक पावर देगा. इस बिल को संसद में लाने से पहले कई बदलाव किये गये हैं. जानें इस नियम से संबंधित अहम जानकारी- वेलफेयर ऑफ पेरेंट्स और सीनियर सिटिजन बिल कैबिनेट ने दिसंबर 2019 में बच्चों का दायरा बढ़ाया गया है। इसमें बच्चे, पोतों (इसमें 18 साल से कम को शामिल नहीं किया गया है) को शामिल किया गया है. इस बिल में सौतेले बच्चे, गोद लिये बच्चे और नाबालिग बच्चों के कानूनी अभिभावकों को भी शामिल किया गया है। अगर ये बिल कानून बन जाता है तो 10,000 रुपये पेरेंट्स को मेंटेनेंस के तौर पर देने होंगे. सरकार ने स्टैंडर्ड ऑफ लिविंग और पेरेंट्स की आय को ध्यान में रखते हुए, ये अमाउंट तय किया है। कानून में बायोलिजकल बच्चे, गोद लिये बच्चे और सौतेले माता पिता को भी शामिल किया गया है। मेंटेनेस का पैसा देने का समय भी 30 दिन से घटाकर 15 दिन कर दिया गया है।
चित्र
तू मेरी गीता पढ़ले मैं पढ़ लू तेरी कुरान, आपस मे भाई चारा निभा के बनायेगे नया हिंदुस्तान
चित्र
पाल सामुदायिक उत्थान समिति की ब्लाक इस्तरीय संगठनात्मक बैठक हुई सम्पन्न
चित्र
कानपुर में ठेले पर पान, चाट और समोसे बेचने वाले 256 लोग निकले करोड़पति
चित्र
योगी सरकार लोगों को देने जा रही फ्री वाईफाई सुविधा
चित्र