भारत-चीन में 8वें दौर की सैन्य वार्ता में भी नहीं बनी बात, अब कूटनीतिक बातचीत संभव

भारत-चीन में 8वें दौर की सैन्य वार्ता में भी नहीं बनी बात, अब कूटनीतिक बातचीत संभव


(न्यूज़)।पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर बरकरार तनाव और शून्य से नीचे तेजी से गिरते तापमान के बीच भारत और चीन के बीच कल सैन्य स्तर की 8वें दौर की बातचीत 10 घंटे से ज्यादा हुई.
लद्दाख के चुशुल में भारत के 14वें कोर के नए कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल पीकेजी मेनन और उनके चीनी समकक्ष के बीच चली मैराथन बातचीत में इस बार भी किसी ठोस रोडमैप पर सहमति नहीं बनी. माना जा रहा है कि सैन्य स्तर पर जमी इस बर्फ को पिघलाने के लिए कूटनीतिक और विशेष प्रतिनिधि स्तर पर नए सिरे से वार्ता शुरू होगी.
हालांकि, पिछले 6ठे और 7वें दौर की बातचीत के बाद सीमा पर यथास्थिति और दोनों तरफ से सेना का अतिरिक्त जमावड़ा नहीं होने देने को सकारात्मक माना जा रहा है. जानकारी के मुताबिक इस बातचीत में दोनों पक्षों ने सहमति जताई है कि सीमा पर तनाव कम करने के लिए एलएसी से पीछे हटे बिना और कोई दूसरा रास्ता नहीं।


Popular posts
योगी की नही विद्युत वितरण खंड प्रथम में चल रही है सपा मानसिकता के रामसनेही की सरकार
चित्र
14 साल की नाबालिग का थाने में हुआ प्रसव:
चित्र
भ्रष्ट अधिशासी अभियंता के रहते नहीं हो सकता है योगी सरकार का सपना साकार- तिवारी
चित्र
अगर आता है आपको भी बार-बार पेशाब, तो समझ लीजिए कि शरीर में पनप रही है ये बीमारियां
चित्र
आज हम बात करेंगे फूलन देवी के सहादत दिवस के अवसर पर बात करेंगे कि फुलवा से कैसे फूलन बनी फूलन देवी का विस्तृत परिचय
चित्र