केन-बेतवा जल विवाद : शिवराज ने किया साफ उत्तर प्रदेश को 700 एमसीएम से अधिक पानी नहीं देगा मध्य प्रदेश

भोपाल,केन-बेतवा नदी लिंक परियोजना को लेकर मध्य प्रदेश ने अपनी स्थिति एक बार फिर साफ कर दी है। राज्य सरकार रबी सीजन के लिए उत्तर प्रदेश को 700 एमसीएम (मिलियन क्यूबिक मीटर) से अधिक पानी नहीं देगी। शुक्रवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने परियोजना की समीक्षा की और इसी दौरान ही केंद्रीय जल संसाधन मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत से फोन पर बात करके प्रदेश की स्थिति स्पष्ट कर दी।


परियोजना से पानी के बंटवारे को लेकर मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश के बीच विवाद लंबे समय से बना हुआ है। उत्तर प्रदेश की मांग 930 एमसीएम पानी के विपरीत मध्य प्रदेश वर्ष 2005 में हुए अनुबंध की शर्तो के तहत 700 एमसीएम पानी ही देना चाहता है। हालांकि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने फोन पर केंद्रीय मंत्री को यह भरोसा भी दिलाया है कि पानी के बंटवारे को लेकर दोनों राज्यों का शीर्ष नेतृत्व बैठक कर आपसी सहमति से हल निकालेगा और जल्दी ही परियोजना का काम शुरू किया जाएगा।


गौरतलब है कि परियोजना से पानी के बंटवारे को लेकर 15 साल से दोनों राज्यों के बीच विवाद चल रहा है। इसे सुलझाने के लिए हर स्तर पर प्रयास किए जा रहे हैं। प्रधानमंत्री कार्यालय भी दो बार मध्यस्थता कर चुका है और अब विवाद सुलझाने की जिम्मेदारी शेखावत को सौंपी गई है। सितंबर 2020 में दिल्ली में हुई दोनों राज्यों के जल संसाधन मंत्रियों और अधिकारियों की बैठक में शेखावत ने परियोजना में देरी पर नाराजगी जताई थी।



ऐसे बढ़ी पानी की मांग वर्ष 2005 में उत्तर प्रदेश को रबी फसल के लिए 547 एमसीएम और खरीफ फसल के लिए 1153 एमसीएम पानी देना तय हुआ था। अप्रैल 2018 में उत्तर प्रदेश की मांग पर रबी फसल के लिए 700 एमसीएम पानी आवंटन पर सहमति बनी। वहीं, केंद्र सरकार ने उत्तर प्रदेश को 788 एमसीएम पानी देना तय किया। इसके बाद भी जुलाई 2019 में उत्तर प्रदेश ने 930 एमसीएम पानी मांग लिया। इतना पानी देने के लिए मध्य प्रदेश तैयार नहीं है। 


Popular posts
अब बुजुर्गों और माता पिता की देखभाल के लिए मिलेगा 10 हजार रुपये, मोदी सरकार बदलेगी नियम न्यूज़।माता-पिता और बुजुर्गों की देखरेख के लिए अब केंद्र सरकार नया नियम लाने जा रही है. दरअसल, मेंटनेंस और वेलफेयर ऑफ पेरेंट्स और सीनियर सिटिजन (अमेंडमेंट) बिल 2019 पर मानसून सत्र में फैसला लिया जा सकता है. बता दें कि सोमवार से ही मानसून सत्र शुरू हो चुका है। वेलफेयर ऑफ पेरेंट्स और सीनियर सिटिजन (अमेंडमेंट) बिल 2019 केंद्र सरकार के एजेंडा में काफी समय से था. मानसून सत्र की शुरुआत में ही केंद्र सरकार इस बिल को लेना चाहती है. दिसंबर 2019 में पास कर दिया गया था ये नियम। वेलफेयर ऑफ पेरेंट्स और सीनियर सिटिजन बिल कैबिनेट ने दिसंबर 2019 में पास कर दिया था। इस बिल का मकसद लोगों को माता-पिता और वरिष्ठ नागरिकों को छोड़ने से रोकना है। विधेयक में माता-पिता और वरिष्ठ नागरिकों की बुनियादी जरूरतों, सुरक्षा और सुरक्षा को सुनिश्चित करने के साथ उनके भरण-पोषण और कल्याण का प्रावधान बनाया गया है। देश में कोविड-19 महामारी की दो विनाशकारी लहरों के मद्देनज़र आने वाला यह विधेयक मौजूदा सत्र में संसद द्वारा पास होने पर वरिष्ठ नागरिकों और अभिभावकों को अधिक पावर देगा. इस बिल को संसद में लाने से पहले कई बदलाव किये गये हैं. जानें इस नियम से संबंधित अहम जानकारी- वेलफेयर ऑफ पेरेंट्स और सीनियर सिटिजन बिल कैबिनेट ने दिसंबर 2019 में बच्चों का दायरा बढ़ाया गया है। इसमें बच्चे, पोतों (इसमें 18 साल से कम को शामिल नहीं किया गया है) को शामिल किया गया है. इस बिल में सौतेले बच्चे, गोद लिये बच्चे और नाबालिग बच्चों के कानूनी अभिभावकों को भी शामिल किया गया है। अगर ये बिल कानून बन जाता है तो 10,000 रुपये पेरेंट्स को मेंटेनेंस के तौर पर देने होंगे. सरकार ने स्टैंडर्ड ऑफ लिविंग और पेरेंट्स की आय को ध्यान में रखते हुए, ये अमाउंट तय किया है। कानून में बायोलिजकल बच्चे, गोद लिये बच्चे और सौतेले माता पिता को भी शामिल किया गया है। मेंटेनेस का पैसा देने का समय भी 30 दिन से घटाकर 15 दिन कर दिया गया है।
चित्र
तू मेरी गीता पढ़ले मैं पढ़ लू तेरी कुरान, आपस मे भाई चारा निभा के बनायेगे नया हिंदुस्तान
चित्र
पाल सामुदायिक उत्थान समिति की ब्लाक इस्तरीय संगठनात्मक बैठक हुई सम्पन्न
चित्र
कानपुर में ठेले पर पान, चाट और समोसे बेचने वाले 256 लोग निकले करोड़पति
चित्र
योगी सरकार लोगों को देने जा रही फ्री वाईफाई सुविधा
चित्र