कोरोना से भारत में कम हुईं मौतें, रिकवरी रेट 92 फीसद : स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय

नई दिल्‍ली, देश में कोरोना वायरस की स्थिति को लेकर प्रेस कांफ्रेंस में स्‍वास्‍थ्‍य सचि‍व राजेश भूषण ने कहा कि भारत में 76 लाख से ज्यादा लोग कोरोना से ठीक हो चुके हैं। अब तक 11 करोड़ से ज्यादा टेस्ट किए जा चुके हैं। रिकवरी रेट 92 फीसद है। देश में प्रति लाख की आबादी में कोरोना के 5,991 मामले सामने आ रहे हैं। दुनिया में प्रति 10 लाख की आबादी पर 5,944 मामले रिपोर्ट हुए हैं। प्रति 10 लाख की आबादी पर भारत में 89 लोगों की मौत हुई है, जबकि दुनियाभर में प्रति 10 लाख की आबादी पर 154 मौतें हुई हैं, जो विश्व स्तर पर तुलना की जाए तो कम है। देश में ऐक्टिव मामलों की संख्या घटकर 5,41,405 हो चुकी है, यह दिखाता है कि हमारे अस्पतालों पर अनावश्यक बोझ नहीं है। टेस्ट, ट्रैक, ट्रेस और ट्रीट पर ध्यान देने की जरूरत है। देश में स्थिति बेहतर हुई है, इसे बचाकर रखने की जरूरत है।


उन्‍होंने कहा कि हमने पिछले 7 हफ्तों में साप्ताहिक नए मामलों के लिए एक गिरावट देखी गई है। साप्ताहिक नए मामलों में बड़ी गिरावट आई है। कोरेाना के मामलों में स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली अनावश्यक रूप से बोझ नहीं है। अस्पतालों के नेटवर्क पर कम दबाव है।  


केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने कहा कि कुछ राज्यों में अक्तूबर के मुकाबले नवंबर में पॉजिटिव केस बढ़े हैं। मणिपुर में 2000 से बढ़कर 3500, दिल्ली में 26000 से 33000, केरल में 77000 से 86000 और पश्चिम बंगाल में 26000 से बढ़कर 36000 हुए हैं। 


नीति आयोग के सदस्‍य डॉ. वीके पाल ने कहा कि कई इलाकों में नए मामलों में बढ़ोतरी हो रही है। दिल्ली और आसपास गुरुग्राम, फरीदाबाद में भी मामले बढ़ रहे हैं। हरियाणा में सीरो सर्वे में 15-16 फीसदी लोग संक्रमित हुए हैं, लगभग 85 फीसदी की आबादी संक्रमण से बची हुई है। यानी 85 फीसदी आबादी पर अब भी संक्रमण का खतरा है। यूरोप में देख रहे हैं कि मामलों में ताजा बढ़ोतरी हुई है।