शराब पीकर मरने वाले के घर से बरामद बोतलों पर लगे बारकोड की जांच में चौंकाने वाले तथ्य आया सामने

 शराब पीकर मरने वाले के घर से बरामद बोतलों पर लगे बारकोड की जांच में चौंकाने वाले तथ्य आया सामने 



(न्यूज़)।शराब कांड में छह ग्रामीणों की मौत के बाद बुलंदशहर के दामन पर लगे दाग को मिटाने के लिए सरकारी मशीनरी जुट गई है।शुरुआती जांच-पड़ताल में स्पष्ट हो चुका है की शराब जिले में तैयार नहीं हुई बल्कि पड़ोसी जिले से लाकर यहां बेची गई थी।शराब पीकर मरने वाले के घर से बरामद बोतलों पर लगे बारकोड की जांच में चौंकाने वाले तथ्य सामने आए हैं।बारकोड स्कैन करने पर मुजफ्फरनगर की डिस्टलरी का पता निकला।आगे जांच की गई तो पता चला की बोतल में जो शराब थी वह अलीगढ़ की है।एसएसपी संतोष कुमार सिंह ने बताया कि टीम सिकंदराबाद ही नहीं बल्कि पूरे जिले के ग्रामीण इलाकों में छानबीन शुरु कर रही है।शराब पीकर मरने वालों के पास से मिली बोतलों पर लगे बारकोड को स्कैन कराया वह स्कैन हो गया,जो असली होने का प्रमाण है स्कैन होने के बाद बारकोड ने जो पता बताया वह मुजफ्फरनगर की डिस्टलरी का निकला।टीम भेजी तो डिस्टलरी की तरफ से बताया गया कि यह शराब यहां तैयार नहीं होती।पैकिंग भी उनकी नहीं है।टीम ने और प्रयास किया तो पता चला की बोतल में शराब अलीगढ़ की है।इसके बाद पुलिस ने मुख्य आरोपी कुलदीप से पूछताछ की।पता चला है कि उसके गिरोह में कई लोग हैं,जो इस काम को अंजाम देते हैं।