अध्ययन में पाया गया कि स्वच्छ हवा से सात फीसदी तक गर्भपात का खतरा कम

 अध्ययन में पाया गया कि स्वच्छ हवा से सात फीसदी तक गर्भपात का खतरा कम



(न्यूज़)।शोधकर्ताओं का कहना है कि वायु की गुणवत्ता में सुधार से गर्भपात की समस्या पर लगाम लग सकती है।अध्ययन में दावा किया गया है कि ऐसा होने से गर्भपात का जोखिमें करीब सात फीसदी तक हो सकता है। शोधकर्ताओं ने अपने अध्ययन में भारत,पाकिस्तान और बांग्लादेश में होने वाले गर्भपात के मामलों और वायु प्रदूषण के बीच के संबंधों की समीक्षा की गई।उन्होंने पाया कि इन देशों में जो गर्भवती महिलाएं दूषित हवा के संपर्क में थी,उनमें गर्भपात और स्टिलबर्थ (पेट में ही बच्चे की मौत) का खतरा अधिक था।अध्ययन में पाया गया कि हवा की गुणवत्ता में सुधार करके इस जोखिम को सात फीसदी तक कम किया जा सकता है।इसमें गर्भपात और स्टिलबर्थ के जोखिम में कमी आ सकती है।पत्रिका लैंसेट प्लेनेटरी हेल्थ में प्रकाशित एक मॉडलिंग अध्ययन के अनुसार,स्टिलबर्थ और गर्भपात का अधिक खतरा हो सकता है।

Popular posts
रेलवे ने दी गुड न्‍यूज, 15 अक्‍टूबर से चलेंगी 200 से ज्‍यादा नई स्‍पेशल ट्रेनें
चित्र
छोटे बच्चों को गांजा पिलाकर बर्बाद करने में उतारू संत
चित्र
पंडित दीनदयाल उपाध्याय ने अंतोदय के सिद्धांत पर पूरे जीवन कार्य किया---- बीजेपी युवा मोर्चा जिला अध्यक्ष
चित्र
*26 जुलाई कारगिल विजय दिवस पर शहीदों को किया गया याद*
चित्र
उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव: एक-एक गांव के आरक्षण चार्ट के लिए अभी करना होगा इंतजार,पहले अफसरों को मिलेगी ट्रेनिंग
चित्र