जगद्गुरु रामभद्राचार्य का विवादित बयान

जगद्गुरु रामभद्राचार्य का विवादित बयान 


बाँदा संवाददाता। जिले के स्थानीय मेडिकल कॉलेज के ऑडिटोरियम में आज दिव्यांगो को लेकर जागरूकता कार्यक्रम व दिव्यांगो के फैशन शो का आयोजन किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि के रूप में जगत गुरु रामभद्राचार्य जी भी मौजूद रहे,इस दौरान जगत गुरु रामभद्राचार्य ने किसान आंदोलन को लेकर एक एक विवादित बयान दिया है। जगतगुरु ने कहा किसान राकेश टिकैत के कहने पर डकैत न बने ,अपना आंदोलन शांत कर दे ,जो 3 कृषि कानून है वो किसान विरोधी नहीं है,न सरकार कृषि बिल वापस लेगी न हम लेने के लिए कहेंगे। वह यही नहीं रूके।बता दें कि बांदा में आज दिव्यांग बच्चों द्वारा दिव्य पथ नाम से कार्यक्रम का आयोजन किया गया था।एक अनोखा दिव्य पथ जिस पर दिव्यांग बच्चों ने हौसलों के साथ चल कर दिखाया। दिव्यांग बच्चों ने शानदार रैंप वॉक किया। विकलांग यूनिवर्सिटी चित्रकूट के बच्चों ने शानदार योगा का प्रदर्शन किया। इसके अलावा भजन गायिका विधि शर्मा ने अपनी प्रस्तुतियां दी। विकलांग बच्चों के रैंप वॉक को देखकर वहां मौजूद दर्शक मंत्रमुग्ध हो गए।

 मुख्य अतिथि के तौर पर उपस्थित पद्म विभूषण द्वारा सम्मानित जगतगुरु रामभद्राचार्य जी ने सभी को अच्छे कर्मों पर चलने की प्रेरणा दी। बुंदेलखंड का यह पहला कार्यक्रम था जो पूरी तरह से दिव्यांग बच्चों द्वारा आयोजित किया गया था दिव्यांग बच्चों के प्रोत्साहन के लिए एसीडी क्लब द्वारा इसका आयोजन किया गया था। वहीं आयोजन खत्म होने के बाद मीडिया ने स्वामी रामभद्राचार्य से किसान आन्दोलन के बारे में बात की तो उन्होंने कहा कि वह किसान आंदोलन के खिलाफ है। और जो लोग तिरंगे का अपमान कर रहे हैं। वह किसी आतंकवादी से कम नहीं है ऐसे लोगों को गिरफ्तार करके कड़ी से कड़ी सजा देनी। चाहिए साथ ही उन्होंने कहा कि वह दिव्यांगों के लिए बने विश्वविद्यालय को केंद्रीय विश्वविद्यालय बनाना चाहते हैं जिसकी उन्होंने सरकार से मांग की है।


Popular posts
सपा नेत्री के नेतृत्व में निकाला गया कैंडल जलूस
इमेज
उम्मेदपुर गांव में गलत तरीके से सरकारी राशन की दुकान आवंटित किए जाने से नाराज सैकड़ों महिलाओं ने जिलाधिकारी को सौंपा ज्ञापन
इमेज
मलवा ब्लाक में CDPO से आंगनबाड़ी कार्यकर्ता पीड़ित, हो रही अवैध वसूली 
इमेज
हवन पूजन के पश्चात स्थान दूधी कगार शोभन सरकार का मेला शुक्रवार से शुरू
इमेज
विश्व का पहला देश इटली ने कोविड-19 से मृत शरीर का पोस्टमार्टम कराकर पता किया कि शरीर में कोरोना वायरस नहीं है