मिशन प्रेरणा के तहत शैक्षिक वातावरण में हो रहा सुधार- संजय कुशवाहा बी एस ए

 मिशन प्रेरणा के तहत शैक्षिक वातावरण में हो रहा सुधार- संजय कुशवाहा बी एस ए


मना का पूरा प्राथमिक विद्यालय में स्मार्ट क्लास के उद्घाटन अवसर पर बोले वक्ता

सेवानिवृत्त शिक्षकों को भी किया गया सम्मानित


प्रयागराज। मिशन प्रेरणा के तहत विद्यालयों के शैक्षिक वातावरण में सुधार हो रहा है सरकार ने बेसिक शिक्षा में बहुत कुछ बदलाव कर दिया है। उक्त बातें विकासखंड सैदाबाद के प्रथम स्मार्ट क्लास के उद्घाटन अवसर पर मना का पूरा प्राथमिक विद्यालय में आयोजित कार्यक्रम के दौरान कही। उन्होंने कहा कि विद्यालय का कायाकल्प किया जा रहा है। कोविड के दौरान ई पाठशाला के माध्यम से छात्रों को जोड़ने का प्रयास किया गया। 100 दिन के अंदर पठन-पाठन से दूर हुए बच्चों को विशेष पैकेज के माध्यम से पढ़ाया जाएगा। विशिष्ट अतिथि प्रमोद कुमार त्रिपाठी बुलबुल ब्लॉक प्रमुख सैदाबाद ने कहा कि जो संस्कार ग्रामीण बच्चों को मिल रहा है वह शहर के बच्चों को नहीं मिल पा रहा है।

माता पिता अपने बच्चों को संस्कार प्रदान करने के लिए प्रयासरत है। विनोद कुमार पांडे जिला अध्यक्ष पूर्व माध्यमिक शिक्षक संघ प्रयागराज ने सेवानिवृत्त शिक्षकों को सम्मानित करते हुए कहा कि शिक्षक कभी सेवानिवृत्त नहीं होता है समाज को नई दिशा प्रदान करने में शिक्षकों की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। खंड शिक्षा अधिकारी राममूर्ति यादव एवं पूर्व जिला मंत्री गोपी कृष्ण त्रिपाठी ने संयुक्त रूप से कहा कि शिक्षा का सदैव नए ढंग से प्रयोग किया जा रहा है और करते रहेंगे। शिक्षा प्रणाली समय के साथ साथ बदलती रहती है। बच्चों के सर्वांगीण विकास के लिए शिक्षक सतत प्रयास कर रहे हैं। कार्यक्रम को उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष अखिलेश द्विवेदी, जिला मंत्री प्रशांत कुमार ओझा, जिला उपाध्यक्ष मनोज त्रिपाठी जिला समन्वयक एमडीएम राजीव त्रिपाठी अश्वनी त्रिपाठी जिला अध्यक्ष आदर्श शिक्षामित्र वेलफेयर एसोसिएशन ने भी संबोधित किया। कार्यक्रम की शुरुआत सरस्वती प्रतिमा पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्वलन करके किया गया। कार्यक्रम के संयोजक इंद्रेश कुमार तिवारी प्रधानाध्यापक एवं ब्लॉक अध्यक्ष उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ ने कार्यक्रम का संचालन एवं अध्यक्षता गीता पांडे राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अखिल भारतीय प्राथमिक शिक्षक संघ ने किया। इस मौके पर सेवानिवृत्त शिक्षकों संतलाल पाल अमरनाथ कुशवाहा इंद्रजीत सिंह यादव सरोज श्रीवास्तव चंद्रिका प्रसाद यादव रामचंद्र पटेल उर्मिला देवी को अंगवस्त्रम एवं धार्मिक पुस्तक प्रदान करके सम्मानित किया गया। राकेश यादव ब्लॉक मंत्री उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ सैदाबाद ने उपस्थित शिक्षक शिक्षिकाओं एवं अतिथियों का आभार व्यक्त किया।

जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी द्वारा विद्यालय के शिक्षकों को प्रशस्ति पत्र प्रदान किया गया। कार्यक्रम में प्रमुख रूप से अखिलेश दुबे अभिनव त्रिपाठी आलोक श्रीवास्तव संतोष पांडे जय शंकर शुक्ला अनीता वर्मा श्रद्धा श्रीवास्तव सुरेश कांत पांडे रामकृष्ण प्रदीप पांडे अनीता वर्मा सतीश तिवारी गीता तिवारी आनंद यादव सोनी देवी शशि कांत पांडे अलका सेठ साधना सिंह नैनेश मिश्र निधि श्रीवास्तव मीनाक्षी त्रिपाठी सोनी देवी अंकिता यादव निरंजना सरिता मिश्रा पूनम शुक्ला सहित कई शिक्षक शिक्षिकाएं मौजूद रही।

Popular posts
अब बुजुर्गों और माता पिता की देखभाल के लिए मिलेगा 10 हजार रुपये, मोदी सरकार बदलेगी नियम न्यूज़।माता-पिता और बुजुर्गों की देखरेख के लिए अब केंद्र सरकार नया नियम लाने जा रही है. दरअसल, मेंटनेंस और वेलफेयर ऑफ पेरेंट्स और सीनियर सिटिजन (अमेंडमेंट) बिल 2019 पर मानसून सत्र में फैसला लिया जा सकता है. बता दें कि सोमवार से ही मानसून सत्र शुरू हो चुका है। वेलफेयर ऑफ पेरेंट्स और सीनियर सिटिजन (अमेंडमेंट) बिल 2019 केंद्र सरकार के एजेंडा में काफी समय से था. मानसून सत्र की शुरुआत में ही केंद्र सरकार इस बिल को लेना चाहती है. दिसंबर 2019 में पास कर दिया गया था ये नियम। वेलफेयर ऑफ पेरेंट्स और सीनियर सिटिजन बिल कैबिनेट ने दिसंबर 2019 में पास कर दिया था। इस बिल का मकसद लोगों को माता-पिता और वरिष्ठ नागरिकों को छोड़ने से रोकना है। विधेयक में माता-पिता और वरिष्ठ नागरिकों की बुनियादी जरूरतों, सुरक्षा और सुरक्षा को सुनिश्चित करने के साथ उनके भरण-पोषण और कल्याण का प्रावधान बनाया गया है। देश में कोविड-19 महामारी की दो विनाशकारी लहरों के मद्देनज़र आने वाला यह विधेयक मौजूदा सत्र में संसद द्वारा पास होने पर वरिष्ठ नागरिकों और अभिभावकों को अधिक पावर देगा. इस बिल को संसद में लाने से पहले कई बदलाव किये गये हैं. जानें इस नियम से संबंधित अहम जानकारी- वेलफेयर ऑफ पेरेंट्स और सीनियर सिटिजन बिल कैबिनेट ने दिसंबर 2019 में बच्चों का दायरा बढ़ाया गया है। इसमें बच्चे, पोतों (इसमें 18 साल से कम को शामिल नहीं किया गया है) को शामिल किया गया है. इस बिल में सौतेले बच्चे, गोद लिये बच्चे और नाबालिग बच्चों के कानूनी अभिभावकों को भी शामिल किया गया है। अगर ये बिल कानून बन जाता है तो 10,000 रुपये पेरेंट्स को मेंटेनेंस के तौर पर देने होंगे. सरकार ने स्टैंडर्ड ऑफ लिविंग और पेरेंट्स की आय को ध्यान में रखते हुए, ये अमाउंट तय किया है। कानून में बायोलिजकल बच्चे, गोद लिये बच्चे और सौतेले माता पिता को भी शामिल किया गया है। मेंटेनेस का पैसा देने का समय भी 30 दिन से घटाकर 15 दिन कर दिया गया है।
चित्र
तू मेरी गीता पढ़ले मैं पढ़ लू तेरी कुरान, आपस मे भाई चारा निभा के बनायेगे नया हिंदुस्तान
चित्र
पाल सामुदायिक उत्थान समिति की ब्लाक इस्तरीय संगठनात्मक बैठक हुई सम्पन्न
चित्र
कानपुर में ठेले पर पान, चाट और समोसे बेचने वाले 256 लोग निकले करोड़पति
चित्र
योगी सरकार लोगों को देने जा रही फ्री वाईफाई सुविधा
चित्र