जरूरत से ज्यादा वजन दिमागी सेहत पर डाल सकता है बुरा असर, बन सकते हैं अल्जाइमर के शिकार

 जरूरत से ज्यादा वजन दिमागी सेहत पर डाल सकता है बुरा असर, बन सकते हैं अल्जाइमर के शिकार



न्यूज़।एक नए अध्ययन से पता चला है कि मोटापा अल्जाइमर रोग के प्रभाव को बढ़ा सकता है। शेफील्ड विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं द्वारा किए गए नए शोध में यह जानकारी दी गई है। इसमें बताया गया कि अधिक वजन होना मस्तिष्क के स्वास्थ्य पर एक अतिरिक्त बोझ की तरह होता है और यह अल्जाइमर के जोखिम को बढ़ाने का काम करता है। मल्टीमॉडल न्यूरोइमेजिंग अध्ययन से पता चला कि मध्य आयु में अधिक वजन होने का प्रभाव वृद्धावस्था में मस्तिष्क के स्वास्थ्य पर पड़ सकता है। शोधकर्ताओं के मुताबिक, हल्के अल्जाइमर रोग में वजन को संतुलित रखने से मस्तिष्क की संरचना को दुरुस्त बनाए रखने में मदद मिलती है। इस शोध के निष्कर्ष द जर्नल ऑफ अल्जाइमर डिजीज रिपोर्ट्स में प्रकाशित किए गए हैं। दुनियाभर में करीब पांच करोड़ से अधिक लोग अल्जाइमर बीमारी के साथ रहने को मजबूर हैं। अर्से से वैज्ञानिक इस बीमारी का सटीक इलाज ढूंढ़ने का प्रयास कर रहे हैं, लेकिन कई अध्ययनों और वैश्विक शोध प्रयासों के बावजूद अब तक इस गंभीर बीमारी का पुख्ता इलाज नहीं खोजा जा सका है। हालांकि यह नया अध्ययन इस बात पर जोर नहीं देता कि मोटापा ही अल्जाइमर रोग का प्रमुख कारण बनता है, बल्कि अध्ययन के परिणाम इस ओर इशारा करते हैं कि मोटापा या अधिक वजन होना मस्तिष्क के स्वास्थ्य पर एक अतिरिक्त बोझ का काम करता है, जिससे अल्जाइमर रोग के बढ़ने की संभावना अधिक हो जाती है।