टीबी व कोरोना की पहचान खांसी नही, अधिक समय से हो खांसी तो न करें अनदेखी

 टीबी व कोरोना की पहचान खांसी नही, अधिक समय से हो खांसी तो न करें अनदेखी


फतेहपुर। मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 गोपाल कुमार माहेश्वरी ने बताया कि किसी भी व्यक्ति को यदि ज्यादा समय से खांसी से पीड़ित हो तो उसकी अनदेखी न करें। इसमें खांसी से पीड़ित व्यक्ति को अपने घर के नजदीकी स्वास्थ्य केन्द्र पर जांच अवश्य कराये। खांसी से कोविड 19 व टीबी नहीं बताया जा सकता है। टीबी भी कोविड की तरह एक संक्रामक बीमारी है। दोनों बीमारियों के लक्षण भी आपस में काफी हद तक मिलते जुलते हैं। इस कारण बीमारी का पता लगाने में काफी कठिनाईयों का सामना करना पड़ता है। इस परिस्थिति में खांसी से पीड़ित व्यक्ति को अत्यन्त सक्रिय रहने की आवश्यकता है। यदि पीड़ित व्यक्ति की रोग प्रतिरोधक क्षमता बहुत कमजोर है तो कोविड व टीबी होने का खतरा रहता है।  

              मुख्य चिकित्साधिकारी ने बताया कि यह टीबी एक प्राचीन काल से चली आ रही बीमारी है जो माइक्रोबैक्टेरियम ट्यूबरकुलोसिस नाम के बैक्टीरिया के संक्रमण से होती है। यह बीमारी ज्यादातर फेफड़ों को प्रभावित करता है। फेफड़ा को प्रभावित करने के बाद पीड़ित व्यक्ति खांसने व छिकने लगता है। उसी के साथ बैक्टीरिया ड्राइलेट के रूप में निकलते हैं जो किसी भी व्यक्ति के सांस लेने के साथ ही शरीर में पहुंचता है परन्तु जिसके शरीर में टीबी का बैक्टीरिया प्रवेश करता है लेकिन यह जरूरी नही है कि व इस टीबी जैसी बीमारी से ग्रसित हो जाए। यदि व्यक्ति की प्रतिरोधक क्षमता कमजोर है तो उसमें इस बीमारी से पीड़ित होने की आंशका ज्यादा बन जाती है।  

            जिला क्षय रोग अधिकारी डाक्टर के0के0 श्रीवास्तव ने बताया कि यह बीमारी फेफड़ों के अलावा शरीर के किसी भी भाग में हो सकता है। जैसेः. हड्डी, बच्चेदानी, मस्तिष्क, आंख, कान व चमड़ी में भी टीबी बीमारी हो सकता है। क्षय रोग विभाग की टीम जिले में बराबर टीबी रोगियों की खोज कर उनका तत्काल उपचार करवाने का काम कर रही है। यदि किसी भी व्यक्ति बीमारी का लक्षण पाया जाता है तो तत्काल उसके बलगम की जांच जिले के सभी स्वास्थ्य केन्द्रों व मंडलीय चिकित्सालय में करवाने का कार्य करें।


खांसी भी कई प्रकार की है.

जिला कार्यक्रम समन्वयक ने बताया कि खांसी कई तरह की होती है किसी भी व्यक्ति को तेज खांसीए सामान्य खांसी, पुरानी खांसी, बलगम वाली खांसी, सूखी खांसी, काली खांसी हो सकती है। ठण्ड के दिनों में यह समस्या प्रायः होती है। यह खांसी विभिन्न प्रकार की बीमारियों को भी पैदा कर सकता है। यदि इलाज के बाद भी खांसी खत्म न हो तो उसकी किसी भी प्रकार से अनदेखी न करें।


कोविड व टीबी बीमारी के लक्षण.

यदि किसी व्यक्ति को सूखी खांसी और बुखार के साथ सांस लेने में तकलीफ है तो यह कोविडण्19 का लक्षण है। यदि दो सप्ताह से ज्यादा समय से लगातार खांसी आना , दो हफ्ते से ज्यादा समय से बुखार आना, खासकर शाम को बुखार आना, खांसी के साथ बलगम में खून आनाए भूख न लगना,वजन कम होना, सीने में दर्द रहना, पसीना आनाए यह टीबी का लक्षण है।

...................................

Popular posts
चार माह बीतने के बाद भी दलित महिला प्रधान को नहीं मिला चार्ज
चित्र
योगी सरकार ने छात्रवृत्ति का बदला नियम, जानिए पैसे लेने के लिए करना होगा क्या नया काम
चित्र
प्रेम प्रसंग के चलते प्रेमी युगल हुए एक दूजे के
चित्र
दिल्ली के निर्भया कांड में आरोपियों को फांसी की सजा दिलाने वाली देश की चर्चित अधिवक्ता सीमा समृद्धि लड़े गीं कानपुर की निर्भया का केस
चित्र
प्यार दे कर जो हमें विदा हुए संसार से,
चित्र