तीन दिन पहले मरी महिला जिंदा निकली

 तीन दिन पहले मरी महिला जिंदा निकली

पिता ने पति समेत आधा दर्जन लोगों के विरुद्ध दर्ज कराया था दहेज हत्या का मुकदमा


बाँदा संवाददाता।3 दिन पहले  केन नदी में डूबकर एक महिला की मृत्यु हो गई थी  जिसकी शिनाख्त जय देवी 25 वर्ष पत्नी लालजी निषाद के रूप में हुई थी जिसमें महिला के पिता ने पति समेत 6 लोगों के खिलाफ दहेज हत्या करके के नदी में फेंकने की रिपोर्ट  दर्ज कराया था दहेज हत्या  का मुकदमा,


  वापस  घर लौटी तो परिवार व  पुलिस में मचा हड़कंप बांदा जिले में मृत महिला जय देवी (25) पत्नी लालजी निषाद जिंदा निकली। मौत और पोस्टमार्टम की खबरों के बाद खुद कानपुर से बांदा आकर जसपुरा थाने पहुंच गई। मृत को जिंदा देख पुलिस की परेशानी बढ़ गई। तीन दिन पूर्व केन नदी में मिले शव की शिनाख्त परिजनों ने जय देवी के रूप में की थी।

पुलिस ने पोस्टमार्टम कराकर रिकॉर्ड में मृतक दर्शा दिया। साथ ही पिता ने जय देवी के पति, सास, ससुर समेत 6 के विरुद्ध दहेज हत्या की रिपोर्ट भी दर्ज कराई थी। अब जय देवी के वापस आने पर पुलिस और परिजनों में हड़कंप मच गया।

उधर नदी में मिले शव को लेकर पुलिस उलझ गई है। थाना इंस्पेक्टर का कहना है मिले शव की जानकारी के लिए आसपास के थानों में संपर्क किया जा रहा है।जसपुरा थाने के प्रभारी निरीक्षक (एसएचओ) पंकज सिंह ने शनिवार को बताया 20 फरवरी से लापता नांदादेव गांव के बिलोड़ी डेरा के रहने वाले लालजी निषाद की पत्नी जय देवी (25) शनिवार को खुद थाने पहुंच गई।

उन्होंने बताया कि बुधवार को केन नदी के अमारा गांव के पथरेल घाट से एक महिला का शव बरामद हुआ था, जिसकी शिनाख्त रमेश निषाद ने अपनी बेटी जय देवी के रूप में की थी और उसने उसके पति समेत ससुराल पक्ष के आठ लोगों के खिलाफ दहेज हत्या का मामला दर्ज करवाया था।

सिंह ने बताया बृहस्पतिवार को हुए पोस्टमॉर्टम की रिपोर्ट में महिला की गला दबाकर हत्या किए जाने की पुष्टि हुई थी।

एसएचओ ने बताया कि लापता महिला जय देवी के जिंदा मिलने के बाद अब केन नदी से बरामद अज्ञात महिला शव के बारे में आसपास के थानों से लापता महिलाओं की सूची मंगवाई गयी है और उन्होंने कहा की महिला के पिता के खिलाफ कार्रवाई होगी गलत शिनाख्त व फर्जी मुकदमा दर्ज कराने को लेकर के महिला के पिता के खिलाफ कार्यवाही की जाएगी।