यूनिसेफ का अनुमान था कि कोरोना को वैश्विक महामारी घोषित किए जाने के 9 से 10 महीने बाद भारत में 20 करोड बच्चे पैदा हो सकते हैं

 यूनिसेफ का अनुमान था कि कोरोना को वैश्विक महामारी घोषित किए जाने के 9 से 10 महीने बाद भारत में 20 करोड बच्चे पैदा हो सकते हैं



न्यूज़।कोरोना महामारी के कारण पैदा हुए हालातों में महिलाओं को गर्भपात करने पर विवश किया है। दुनिया भर में दिखे ट्रेन के हवाले से विशेषज्ञों ने दावा किया है। विशेषज्ञों का कहना है कि कोरोनावायरस पर नियंत्रण के लिए पिछले एक साल के दौरान दुनिया भर के देशों में अलग-अलग समय पर तालाबंदी की गई, ऐसे में पूरी संभावना है कि ज्यादा महिलाओं ने गर्भधारण किया होगा पर उसके अनुरूप ज्यादा बच्चे पैदा नहीं हो रहे हैं। यह बताता है कि महिलाओं को संस्थागत या गैर संस्थागत तरीके से गर्भपात कराना पड़ा है, जिसके कारण आर्थिक तंगी, नौकरी छूट जाना वह अनचाहा गर्भ आदि हो सकता है। गर्भपात की स्थिति महिलाओं के स्वास्थ्य पर गंभीर असर डालती है। यूनिसेफ ने अनुमान लगाया था कि 11 मार्च, 2020 को कोविड-19 को वैश्विक महामारी घोषित किए जाने के 9 से 10 महीने बाद भारत में 20 करोड बच्चे पैदा हो सकते हैं, जो दुनिया में सर्वाधिक होगा। पिछले साल बाद तक में कितने बच्चे पैदा हुए इस पर अभी वैश्विक निकाय अथवा सरकार की ओर से कोई आंकड़ा सामने नहीं आया है। पर प्रसूति चिकित्सक इससे विपरीत स्थिति होने का दावा कर रहे हैं।

Popular posts
सपा नेत्री के नेतृत्व में निकाला गया कैंडल जलूस
इमेज
उम्मेदपुर गांव में गलत तरीके से सरकारी राशन की दुकान आवंटित किए जाने से नाराज सैकड़ों महिलाओं ने जिलाधिकारी को सौंपा ज्ञापन
इमेज
मलवा ब्लाक में CDPO से आंगनबाड़ी कार्यकर्ता पीड़ित, हो रही अवैध वसूली 
इमेज
हवन पूजन के पश्चात स्थान दूधी कगार शोभन सरकार का मेला शुक्रवार से शुरू
इमेज
विश्व का पहला देश इटली ने कोविड-19 से मृत शरीर का पोस्टमार्टम कराकर पता किया कि शरीर में कोरोना वायरस नहीं है