राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद करेंगे "रामलला" के दर्शन, प्रेसिडेंशियल ट्रेन से करेंगे यात्रा

 राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद करेंगे "रामलला" के दर्शन, प्रेसिडेंशियल ट्रेन से करेंगे यात्रा



लखनऊ।पिछले महीने प्रेसिडेंशियल ट्रेन से दिल्ली से कानपुर और फिर कानपुर से लखनऊ तक की यात्रा के बाद राष्ट्रपति राम नाथ कोविन्द जल्द फिर से शहर आ सकते हैं। इस बार राष्ट्रपति लखनऊ से अयोध्या तक प्रेसिडेंशियल ट्रेन से सफर कर सकते हैं। राष्ट्रपति का अगस्त माह में तीन दिन का कार्यक्रम प्रस्तावित है। राष्ट्रपति के आगमन को लेकर रेलवे सहित कई विभागों के बीच तैयारियां शुरू हो गई हैं।

राष्ट्रपति का संभावित कार्यक्रम 27 से 29 अगस्त तक है। रेलवे बोर्ड के वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक राष्ट्रपति इस बार लखनऊ से अयोध्या की ट्रेन की यात्रा कर सकते हैं। राष्ट्रपति भवन से उनकी यात्रा को लेकर सूचना दी गई है।

हालांकि अभी कार्यक्रम अधिकारिक रूप से जारी नहीं किया गया है। संभावित कार्यक्रम के तहत राष्ट्रपति विशेष विमान से 27 अगस्त को लखनऊ के चौधरी चरण सिंह अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट आएंगे। यहां से राष्ट्रपति अगले दिन 28 अगस्त को गोरखपुर जाएंगे। गोरखपुर में राष्ट्रपति आयुष विश्वविद्यालय का शिलान्यास करेंगे। साथ ही गुरू गोरक्षनाथ विश्वविद्यालय में अस्पताल भवन का उदघाटन भी राष्ट्रपति करेंगे। देर शाम राष्ट्रपति लखनऊ वापस लौटेंगे और अगले दिन 29 अगस्त को लखनऊ से प्रेसिडेंशियल ट्रेन से वह अयोध्या की यात्रा पर जाएंगे। राष्ट्रपति अयोध्या में रामलला के दर्शन करेंगे। इसके अलावा उनका वहां कई विकास कार्यक्रमों के उद्घाटन और शिलान्यास का भी कार्यक्रम है।

रेलवे लखनऊ से फैजाबाद रूट पर मेंटनेंस से जुड़े काम तेजी से कर रहा है। इससे पहले राष्ट्रपति 25 जून को दिल्ली सफदरजंग से कानपुर प्रेसिडेंशियल ट्रेन से आए थे। अपने पैतृक गांव के भ्रमण के बाद वह इसी ट्रेन से कानपुर से लखनऊ आए थे। दो इंजनों के साथ 16 बोगियों वाली उनकी ट्रेन को आरपीएफ की दिल्ली की टीम ने एस्कॉर्ट किया था।

Popular posts
अब बुजुर्गों और माता पिता की देखभाल के लिए मिलेगा 10 हजार रुपये, मोदी सरकार बदलेगी नियम न्यूज़।माता-पिता और बुजुर्गों की देखरेख के लिए अब केंद्र सरकार नया नियम लाने जा रही है. दरअसल, मेंटनेंस और वेलफेयर ऑफ पेरेंट्स और सीनियर सिटिजन (अमेंडमेंट) बिल 2019 पर मानसून सत्र में फैसला लिया जा सकता है. बता दें कि सोमवार से ही मानसून सत्र शुरू हो चुका है। वेलफेयर ऑफ पेरेंट्स और सीनियर सिटिजन (अमेंडमेंट) बिल 2019 केंद्र सरकार के एजेंडा में काफी समय से था. मानसून सत्र की शुरुआत में ही केंद्र सरकार इस बिल को लेना चाहती है. दिसंबर 2019 में पास कर दिया गया था ये नियम। वेलफेयर ऑफ पेरेंट्स और सीनियर सिटिजन बिल कैबिनेट ने दिसंबर 2019 में पास कर दिया था। इस बिल का मकसद लोगों को माता-पिता और वरिष्ठ नागरिकों को छोड़ने से रोकना है। विधेयक में माता-पिता और वरिष्ठ नागरिकों की बुनियादी जरूरतों, सुरक्षा और सुरक्षा को सुनिश्चित करने के साथ उनके भरण-पोषण और कल्याण का प्रावधान बनाया गया है। देश में कोविड-19 महामारी की दो विनाशकारी लहरों के मद्देनज़र आने वाला यह विधेयक मौजूदा सत्र में संसद द्वारा पास होने पर वरिष्ठ नागरिकों और अभिभावकों को अधिक पावर देगा. इस बिल को संसद में लाने से पहले कई बदलाव किये गये हैं. जानें इस नियम से संबंधित अहम जानकारी- वेलफेयर ऑफ पेरेंट्स और सीनियर सिटिजन बिल कैबिनेट ने दिसंबर 2019 में बच्चों का दायरा बढ़ाया गया है। इसमें बच्चे, पोतों (इसमें 18 साल से कम को शामिल नहीं किया गया है) को शामिल किया गया है. इस बिल में सौतेले बच्चे, गोद लिये बच्चे और नाबालिग बच्चों के कानूनी अभिभावकों को भी शामिल किया गया है। अगर ये बिल कानून बन जाता है तो 10,000 रुपये पेरेंट्स को मेंटेनेंस के तौर पर देने होंगे. सरकार ने स्टैंडर्ड ऑफ लिविंग और पेरेंट्स की आय को ध्यान में रखते हुए, ये अमाउंट तय किया है। कानून में बायोलिजकल बच्चे, गोद लिये बच्चे और सौतेले माता पिता को भी शामिल किया गया है। मेंटेनेस का पैसा देने का समय भी 30 दिन से घटाकर 15 दिन कर दिया गया है।
चित्र
तू मेरी गीता पढ़ले मैं पढ़ लू तेरी कुरान, आपस मे भाई चारा निभा के बनायेगे नया हिंदुस्तान
चित्र
पाल सामुदायिक उत्थान समिति की ब्लाक इस्तरीय संगठनात्मक बैठक हुई सम्पन्न
चित्र
कानपुर में ठेले पर पान, चाट और समोसे बेचने वाले 256 लोग निकले करोड़पति
चित्र
योगी सरकार लोगों को देने जा रही फ्री वाईफाई सुविधा
चित्र