खेल की उपयोगिता

 " खेल की उपयोगिता


"

सदा खेल से पुलकित हो मन, 

खेल से  ही होता पुष्टित तन l

खेल से जीवन- खेल को समझो, 

खेल से ही मिलता स्वास्थ्य-धन l

खेल ने हमको सदा सिखाया, 

मन प्रमुदित औ छरहर काया l

खेल से ही हम नित -नित सीखे, 

हार ,  जीत  में   कैसे    बदले l

खेल से ही हम सीखे हरदम, 

कभी किसी को चोट न दें हम l

मिलकर  ही  हमको  है  रहना, 

कुछ भी हो पर सब कुछ सहना l

दुश्मन  नहीं  दोस्त बनकर के, 

खेल- खेल  में  खेल   खेलना l

जीवन की अनंत अभिलाषा, 

खेल से ही है जीवन -आशा l

खेल ने हमको सदा सिखाया, 

मन प्रमुदित औ छरहर काया l

टीम  भावना   सदा  ही  रखना, 

कभी किसी का अहित न करना l

खेल- खेल से खेल ही खेलो, 

जीवन की हर विपदा झेलो l

खेल में भी जो चोट हैं दे जन, 

उनका कलुषित होता है मन l

खेल ने हँसना- रोना सिखाया, 

पुलकित नयन ह्रदय हर्षाया l

खेल ने हमको सदा सिखाया, 

मन प्रमुदित औ छरहर काया l


रश्मि पाण्डेय ARP मलवां बिंदकी, फतेहपुर

Popular posts
पाल समुदायिक उत्थान समिति एवं राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग मोर्चा के तत्वाधान में सम्मेलन संपन्न
चित्र
एक तो दहेज प्रताड़ना ऊपर से देवर की घिनौनी हरकत से त्रस्त महिला ने लगाई न्याय की गुहार
चित्र
श्री बांके बिहारी मंदिर के प्रबंधन के संबंध में जिलाधिकारी की अध्यक्षता में बैठक संपन्न
चित्र
पत्रकार की चोरी गयी गाड़ी को पुलिस ने किया बरामद चोर गिरफ्तार।
चित्र
बजरंग दल के लोगों ने लगाया जाम
चित्र