जबरन बनाया गया सम्बध नही है रेप, हाईकोर्ट का अनोखा निर्णय

 जबरन बनाया गया सम्बध नही है रेप, हाईकोर्ट का अनोखा निर्णय



पति द्वारा जबरन सम्बध्ं बनाये जाने को लेकर दायर याचिका पर सुनाया कोर्ट ने निर्णय


न्यूज़। प्रदेश के हाईकोर्ट ने एक चैकाने वाला निर्णय देते हुए कहा है कि शादीशुदा जोडे के बीच बिना एक दूसरे की सहमति या इच्छा के बनाये गये सेक्स को रेप नही माना जायेगा। कोर्ट ने इस मामले मे आरोपी पति को बाइज्जत बरी कर दिया है।

छत्तीसगढ हाईकोर्ट ने इस आदेश मे कहा है कि कानूनी रूप से शादी कर चुके दो लोगों के बीच यौन सम्बध बनाना भले ही जबरदस्ती से बनया गया हो इसे रेप नही कहा जा सकता। लेकिन यहां यह भी बताना आवश्यक है कि कोर्ट ने आरोपी के विरूद्व अप्राकृतिक योैन सम्बध की धारा 377 को बनाये रखा है जिसके तहत उस पर मामला चलता रहेगा।

ज्ञात हो कि इस मामले मे पत्नी ने अपने सास ससुर पर दहेज की मांग तथा घरेलू हिसां के आरोपो ंके साथ अपने पति को भी आरोपित करते हुए कहा था कि उसके विरोध के बाद भी पति उसके साथ जबरन सम्बध और वह भी अप्राकृतिक तरीके से बनाता है।

मामले की सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट के न्यायाधीश एन के चन्द्रवंशी ने कहा कि सक्सुअल इन्टरकोर्स या फिर पुरूष की ओर से ऐसी कोई क्रिया रेप नही कहलाएगी लकिन पत्नी की उम्र 18 वर्ष से अधिक होनी चाहिए। न्यायाधीश ने कहा कि प्रस्तुत मामले मे शिकातयकर्ता आरोपी की वैधानिक पत्नी है ऐसे मे पति द्वारा पत्नी से सम्बध बनाया जाना किसी भी तरह से रेप की श्रेणी मे नही आ सकता, भले ही वह उसकी इच्छा के बिना ही बनाया गया हो। कोर्ट ने इस मामले मे फैसला सुनाते हुए आरेापी पति को रेप के आरोप से बरी कर दिया लेकिन उस पर अप्राकृतिक सम्बध बनाने दहेज उत्पीडन से सम्बधिंत मामले चलते रहेगे।

कोट्र्र ने इस मामले मे एक तरफ जहां अपनी तरफ से न्याय करने की कोशिश की है वही दूसरी ओर कई सवाल भी खडे कर दिये हैं, खासकर ऐसे मामले जिनको मैरिटल रेप की श्रेणी में रखा जाता था। अब सवाल यह खडा होगा कि जबरदस्ती सम्बध बनाये जाने को यदि उचित मान लिया जायेगा तो मैरिटल सेक्स जैसे अपराध को किस मामलो मे माना जायेगा।

Popular posts
पाल समुदायिक उत्थान समिति एवं राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग मोर्चा के तत्वाधान में सम्मेलन संपन्न
चित्र
चार माह बीतने के बाद भी दलित महिला प्रधान को नहीं मिला चार्ज
चित्र
मुंबई में धमाल मचा रहे हैं फतेहपुर के शिवार्थ श्रीवास्तव
चित्र
उत्तर प्रदेश के युवाओं के लिए रोजगार का सुनहरा मौका, चार अक्टूबर को हर जिले में लगेगा अप्रेंटिसशिप मेला
चित्र
प्यार दे कर जो हमें विदा हुए संसार से,
चित्र