किये संकुचित अखंड रश्मियाँ,

 "संध्याकाल"



किये संकुचित अखंड रश्मियाँ, 

                रवि चले पश्चिम् की ओर l

रवि ने उठाया डेरा जब, 

          तमुल् तम की आ गयीं डोलियाँl

नभ शासक बना शशि तब, 

           सज गयीं ताराओं की लाड़ियाँ l

झींगुर ने झंकार मचाई, 

             अति दयनीय हुयीं कलियाँ l

चक्रवाक हुए शोकाकुल, 

            श्लिष्ट हुई वियोग की घड़ियाँ l

अटल प्रकृति भी हो गयी स्तब्ध, 

             सूनी हो गयीं सारी गालियाँ l

अर्ध प्रकृति हुई अति प्रमुदित, 

          अर्ध के हिस्से शोक की घड़ियाँl

रवि चलें पश्चिम की ओर, 

        किये संकुचित अखंड रश्मियाँ l


रश्मि पाण्डेय


ARP मलवाँ बिंदकी फतेहपुर

Popular posts
पाल समुदायिक उत्थान समिति एवं राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग मोर्चा के तत्वाधान में सम्मेलन संपन्न
चित्र
एक तो दहेज प्रताड़ना ऊपर से देवर की घिनौनी हरकत से त्रस्त महिला ने लगाई न्याय की गुहार
चित्र
श्री बांके बिहारी मंदिर के प्रबंधन के संबंध में जिलाधिकारी की अध्यक्षता में बैठक संपन्न
चित्र
आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को योगी सरकार का बड़ा तोहफा, बढ़ाया गया मानदेय
चित्र
पत्रकार की चोरी गयी गाड़ी को पुलिस ने किया बरामद चोर गिरफ्तार।
चित्र