सर्वे में खुलासा : 48 फीसदी छात्र पढ़ना-लिखना भूले, कोरोना का है ये दुष्परिणाम

 सर्वे में खुलासा : 48 फीसदी छात्र पढ़ना-लिखना भूले, कोरोना का है ये दुष्परिणाम



ग्रामीण इलाकों में 37 फीसदी तो शहरी इलाकों में 19 फीसदी बच्चे इन दिनों बिलकुल भी पढ़ाई नहीं कर रहे हैं। केवल 8 फीसदी ही ऐसे बच्चे हैं जो ऑनलाइन शिक्षा प्राप्त कर रहे हैं। सर्वेक्षण-लॉक्ड आउट इमरजेंसी रिपोर्ट ऑन स्कूल एजुकेशन में यह खुलासा हुआ है


अभिभावक कहते हैं कि स्कूल बंद होने के बाद उनके बच्चे के पढ़ने लिखने की क्षमता में कमी आई है


न्यूज़।कोरोना महामारी के चलते 17 महीनों यानी 500 दिनों से बंद स्कूलों का सबसे बुरा प्रभाव बच्चों की शिक्षा पर पड़ा है। समाज के 1362 वंचित वर्ग के घरों के बच्चों के बीच किये गए सर्वे से पता चला है कि ग्रामीण इलाकों में 37 फीसदी तो शहरी इलाकों में 19 फीसदी बच्चे इन दिनों बिलकुल भी पढ़ाई नहीं कर रहे हैं। केवल 8 फीसदी ही ऐसे बच्चे हैं जो ऑनलाइन शिक्षा प्राप्त कर रहे हैं। स्कूल चिल्ड्रन ऑनलाइन और ऑफलाइन लर्निंग (स्कूल) सर्वेक्षण-"लॉक्ड आउट: इमरजेंसी रिपोर्ट ऑन स्कूल एजुकेशन" में यह खुलासा हुआ है।

सर्वे में सबसे चौकाने वाली बात ये है कि स्कूल बंद होने के चलते बच्चों की पढ़ाई लिखाई बंद हो गई है। उसका दुष्परिणाम ये हुआ है कि शहरी इलाकों के 48 फीसदी बच्चे ठीक से अक्षर और शब्दों को पढ़ नहीं पा रहे। शहरी इलाकों के 65 फीसदी तो ग्रामीण इलाकों के 70 फीसदी अभिभावकों का कहना है कि लॉकडाउन के चलते स्कूल बंद होने के बाद उनके बच्चे के पढ़ने लिखने की क्षमता में कमी आई है। इस सर्वे से जुड़े स्वतंत्र शोधकर्ता विपुल पायकरा के मुताबिक “इस सर्वे से पता लगता है कि हालात बेहद गंभीर और चिंताजनक है। ये इस ओर इशारा कर रहा है कि हम सामूहिक निरक्षरता की तरफ जा हैं।”  

स्कूल खोलने के पक्ष में अभिभावक

बच्चों की शिक्षा में आई गिरावट के बाद सर्वे में जिन अभिभावकों से बात की गई इनमें से बड़ी संख्या स्कूलों के खोले जाने के पक्ष में हैं। बड़ी संख्या में इन वंचित घरों के अभिभावक स्कूल के खोले जाने के पक्ष में है। ग्रामीण इलाकों में 97 फीसदी तो शहरी इलाकों में 90 फीसदी अभिभावक चाहते हैं कि स्कूलों को खोल दिया जाये। विपुल पायकरा के मुताबिक “ अगर स्कूल खोलने को लेकर कुछ नहीं किया गया तो बच्चों की शिक्षा के नजरिये से ये बेहद नुकसानदेह होगा। अलग अलग पारी में बांटकर बच्चों को स्कूल बुलाया जा सकता है। सरकार को इस बारे में सोचना होगा, अगर ये नहीं किया तो बच्चे अनपढ़ रह जायेंगे।”

ये सर्वे अर्थशास्त्री जीन ड्रेज, रितिका खेड़ा, विपुल पायकरा और निराली बखला के निगराणी में 100 से ज्यादा वॉलंटियर्स जिसमें यूनिवर्सिटी के छात्र शामिल थे उनके द्वारा किया गया है। विस्तृत रिपोर्ट आगे जारी किया जाएगा। वहीं इसी रिपोर्ट में बताया गया है कि अजीम प्रेमजी यूनिवर्सिटी और भारत ज्ञान विज्ञान समिति द्वारा भी बच्चों की शिक्षा को लेकर रिपोर्ट तैयार की जा रही है। अगस्त महीने में 15 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में ये सर्वे कराया गया है जिसमें उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र बिहार, पश्चिम बंगाल कर्नाटक जैसे राज्य शामिल है।

Popular posts
जिले में महिलाओं के हत्या युक्त अज्ञात शव मिलने का नहीं थम रहा सिलसिला 3 दिन पहले मिली थी हत्या युक्त महिला का शव अभी तक नहीं हुई कोई शिनाख्त
चित्र
योगी सरकार ने छात्रवृत्ति का बदला नियम, जानिए पैसे लेने के लिए करना होगा क्या नया काम
चित्र
प्रेम प्रसंग के चलते प्रेमी युगल हुए एक दूजे के
चित्र
15 हजार से कमाई कम तो मिलेगा बीमा और आयुष्मान कार्ड का लाभ, करना होगा यह काम
चित्र
दिल्ली के निर्भया कांड में आरोपियों को फांसी की सजा दिलाने वाली देश की चर्चित अधिवक्ता सीमा समृद्धि लड़े गीं कानपुर की निर्भया का केस
चित्र