महिला आंगनबाड़ी कार्यकर्तिओं ने अपनी 12 सूत्री मांगों को लेकर भरी हुंकार

 महिला आंगनबाड़ी कार्यकर्तिओं ने अपनी 12 सूत्री मांगों को लेकर  भरी हुंकार



फतेहपुर।प्रदेश की  लाखों आंगनबाड़ी कार्यकत्री एवं सहायिकाओं की मांगे ना माने जाने पर संगठन द्वारा नहर कॉलोनी परिसर में विभिन्न समस्याओं के संबंध में पूर्व में प्रेषित पत्र पत्र वार्ता हेतु कोई विचार न किए जाने के कारण आगामी 8 नवंबर से प्रदेश व्यापी ध्यानाकर्षण धरना प्रदर्शन किए जाने के संबंध में महिला आंगनबाड़ी कर्मचारी संघ उत्तर प्रदेश ने विभाग को बार-बार पत्र लिखकर आंगनवाड़ी वर्कर से जुड़ी समस्याओं पर एवं मांग पत्र पर वार्ता हेतु बैठक की मांग की लेकिन विभाग द्वारा एक बार भी मिलने का समय नहीं दिया गया और ना ही मांगों पर कोई विचार किया गया प्रदेश में कार्यरत लाखों आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों की विकट समस्या पर संगठन में आपका ध्यान आकर्षित करना चाहता है जिसका निस्तारण कर आना अति आवश्यक है

*हमारी समस्याओं के निराकरण के संबंध में मांग निमृत है*

आंगनबाड़ी महिलाओं का 62 वर्ष की उम्र में बिना पेंशन ग्रेजुएटी और सामाजिक सुरक्षा के जबरन सेवानिवृत्ति कर दिया गया है जिस को पुनः वापस लिया जाए अथवा पेंशन व ग्रेजुएटी दिया जाए 62 वर्ष में सेवा से निकाली गई कार्यकत्री और सहायिकाओं के संबंध में आदेश के विरुद्ध यूनियन की पीआईएल कोर्ट में लंबित है जब तक उस पर फैसला ना आई नई नियुक्ति न की जाए उत्तर प्रदेश सरकार अपने घोषणापत्र का पालन कर 15,000 आंगनवाड़ी कार्यकत्री व मिनी आंगनवाड़ी को तथा 10,000 सहायिका का मानदेय प्रदान करें किसी भी कारण से ड्यूटी के दौरान मृत आंगनवाड़ी कर्मियों को कम से कम 10 लाख का मुआवजा दिया जाए व उनके परिवार की बेटी या बहू की सीधी भर्ती की जाए जो केंद्र किराए पर चल रहे हैं वहां वर्कर द्वारा मकान मालिक को समय पर भुगतान कर दिया जाता है जबकि विभाग द्वारा कई कई महीने का किराया एक मुफ्त आता है केंद्र किराए का भुगतान प्रतिमा आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों को भी उपलब्ध कराया जाए सभी मिनी आंगनवाड़ी केंद्रों को पूर्ण आंगनवाड़ी केंद्र के बदला जाए इन्हें दोहरा काम करना पड़ता है इसीलिए इन्हें कार्यकत्रियों के बराबर ही मानदेय दिया जाए प्री प्राइमरी की ट्रेनिंग लेने वाली वर्कर को प्री प्राइमरी अध्यापक का दर्जा दिया जाए 3 से 6 साल के बच्चों को स्कूलों की तरह किताबें वर्दी जूते स्वेटर दिया जाए आई सी डी उत्तर प्रदेश की नई वेबसाइट पर सभी अधिकारियों और मंत्री के सीयूजी नंबर और ईमेल पते सभी पुराने शासनादेश तथा सर्कुलर सभी डीपीओ की ईमेल एड्रेस पर बजट समेत प्रतिमाह दिया जा रहा है राशन पोषाहार की रिपोर्ट भी नियमित वेबसाइट पर शेयर की जाए मथुरा में आंगनबाड़ी महिलाओं पर किए गए फर्जी मुकदमों को वापस लिया जाए जिसमें कि आंगनबाड़ी महिलाएं कोर्ट के चक्कर लगाने के बजाय अपने विभाग के कार्यों को सुचारु रुप से करती रहे पोषाहार वितरण मैं स्वयं सहायता समूह की संबंधित को समाप्त किया जाए जिससे कि आए दिन हो रहे मतभेद संबंधियों समस्याओं से बचा जा सके एवं लाभार्थियों को पूर्ण लाभ प्राप्त हो सके आंगनबाड़ी कार्यकत्री के लिए हर 5 साल में कुर्सी मेल बॉक्स आवश्यक बर्तन खरीदने बच्चों को ड्रेस बैठने के लिए टाट पट्टी और मुफ्त नर्सरी स्तर का कलर पेंसिल बैग प्लेट प्रदान किया जाए जल्द से जल्द यूनियन प्रतिनिधियों के साथ जूम फिजिकल मीटिंग बुलाई जाए साथ ही प्रदेश जनपद स्तर पर प्रत्येक तीन माह पर ड्रेस यूनियन एक्ट में रजिस्टर्ड महिला आंगनवाड़ी कर्मचारी संघ उत्तर प्रदेश के प्रतिनिधियों एवं विभाग के अधिकारियों की बैठक कराए जाने का निर्देश जारी किया जाए जिससे कि उत्पन्न ज्वलनशील समस्याओं का समय समय समय पर निराकरण कराया जाए

आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों उपरोक्त मांगों एवं समस्याओं के संबंध में शीघ्र ही विचार करते हुए निराकरण किया जाए अन्यथा की स्थिति में संगठन आगामी 8 नवंबर 2021 से प्रदेश व्यापी ध्यानाकर्षण धरना प्रदर्शन आंदोलन पर जाने के लिए विवश होगा जिसकी समस्त जिम्मेदारी शासन एवं सरकार की होगी।