डिजियाना ग्रुप इन्दौर मे छापामारी के बाद आयकर विभाग ने बांदा में पूर्व विधायक के घर पर मारा छापा

 डिजियाना ग्रुप इन्दौर मे छापामारी के बाद आयकर विभाग ने बांदा में पूर्व विधायक के घर पर मारा छापा



संवाददाता बाँदा - बालू खदान में डीजियाना ग्रुप इंदौर से हुई पार्टनरशिप और पांच करोड़ के लेनदेन को लेकर आयकर विभाग ने डीजियाना ग्रुप इंदौर ने छापा मारा और इसके बाद बांदा में इसी मामले को लेकर मेरे आवास पर भी छापा मारा गया। छापामार कार्रवाई करीब 48 घंटे तक चली लेकिन जांच में टीम को सब कुछ नंबर एक का मिला। इससे टीम जांच के बाद वापस चली गई।

यह बात आज पूर्व विधायक दलजीत सिंह ने अपने कार्यालय में पत्रकारों से बातचीत के दौरान कहीं। उन्होंने बताया कि वर्ष 2018 में डीजियाना ग्रुप इंदौर ने यहां 4 खदानें ली थी। इसमें हमारे भाई दलजीत सिंह और सहयोगी मंगल सिंह पार्टनर थे इसके एवज में हमारी ओर से कंपनी को पांच करोड़ रुपए खाते के द्वारा भेजे गए थे।

जो बालू खदान ली गई थी उनमें बालू नही निकली जिससे खदानें बीच में ही बंद हो गई। इसलिए हमने डीजियाना कंपनी से अपना पैसा वापस मांगा था।लेकिन कंपनी द्वारा पैसा वापस नहीं दिया जा रहा था कोई न कोई बहाना बनाकर टालमटोल किया जा रहा था। इस बीच जानकारी मिली है कि डीजियाना कंपनी इंदौर में छापामार कार्रवाई के दौरान हमारे द्वारा 5 करोड का लेनदेन का मामला सामने आया। इसकी जांच के लिए कानपुर की आयकर टीम परसों बांदा आई इनमें टीम के 7 लोग शामिल थे, बाकी पुलिस फोर्स के लोग थे।

इस टीम ने मेरे रहायसी आवास के अलावा पार्टनर मंगल सिंह के आवास पर भी छापामार कार्रवाई की।उन्होंने कंप्यूटर से लेकर आवास के तमाम संभावित ठिकानों पर खोजबीन की और लगभग साढ़े 8 लाख रुपए सीज किया। यह पैसा भी हमारे पेट्रोल पंप की रोज की बिक्री का था। उन्होंने इस बात से इनकार किया कि यहां ईडी ने छापा मारा था।

छापा मारने वाली आयकर कानपुर की टीम थी और यह टीम इंदौर की आयकर टीम के निर्देश पर काम कर रही थी। उन्होंने एक सवाल के जवाब में कहा कि यह कहना गलत होगा की राजनीतिक कारणों से मेरे घर पर छापामार कार्रवाई की गई। उन्होंने कहा कि 5 करोड़ रूपया कंपनी को दिया गया है वह हमें वापस मिलना चाहिए जो अभी तक नहीं मिला है।


बताते चले कि शहर कोतवाली क्षेत्र के कालू कुआं मोहल्ले में कांग्रेस के विधायक रहे दलजीत सिंह के आवास पर  ईडी द्वारा 2 दिन पहले कार्यवाही शुरू की गई लेकिन परिवार के सभी सदस्यों के मोबाइल फोन बंद होने से इस बारे में किसी को जानकारी नहीं हुई हालांकि मीडिया में छापे मार कार्रवाई की सुगबुगाहट गुरुवार से ही शुरू हो गई थी।

सूत्रों के मुताबिक छापामार कार्रवाई में करीब दो टीमें शामिल रही जांच के दौरान लगभग 22लाख रुपए नगद और 2 किलो सोना बरामद होने की बात कही जा रही थी इनका डीजियाना कंपनी के साथ कई करोड़ का बड़ा टर्नओवर भी पकड़ा गया है। इस मामले में पूर्व विधायक दलजीत सिंह से लगातार कई घंटे पूछताछ की गई।