तुम्हें अपने आँसू हम क्या दिखाएँ,

 "कारण"


तुम्हें अपने आँसू हम क्या दिखाएँ, 


      तुम्हीं ने ही आँसू नयन में सजाया l

तुम्हें पीर ह्रदय हम क्या बताएं, 

     तुम्हीं ने ही हर पीर हमको दिया है l

तुम्हें वेदना भाव के क्या दिखाएँ, 

       तुम्हीं ने ही तो वेदना भर दिया है l

तुम्हें हम तपन टीस क्या समझाएं, 

      तुमसे तपन टीस भी मिल गया है l

ये गहराइयों की घनी भूत छाया, 

  इन्होंने सितम हर से परिचित कराया l

धरती औ अम्बर मिलन है क्षितिज, 

      मग़र ये मिलन भी अधूरा कहाया l

सफ़ेदी सी काग़ज़ की प्रीति मेरी, 

     मगर दाग़ स्याही का तुमने लगाया l

बड़ी सादगी से ये जीवन जिया, 

      मग़र सादगी में भी ऊँगली उठाया l

तुम्हें भाव सन्यास क्या समझाएँ, 

       ये भाव सन्यासियों की कला है l

 काग़ज़ की कश्ती जो तुमने चलाया, 

        ये भाव पावन जो तुमने मिटाया l

तुम्हें क्या बताएं हम घाव मन के, 

          ये घाव भी तो तुमने दिया है l

       

रश्मि पाण्डेय

बिंदकी, फतेहपुर

Popular posts
बुंदेलखंड जन अधिकार पार्टी ने जिलाध्यक्ष हनुमान प्रसाद दास राजपूत को विधानसभा बांदा सदर से प्रत्याशी किया घोषित,
चित्र
उत्तर प्रदेश फ्री स्मार्ट फोन और टैबलेट योजना 2021: इंतजार खत्म, योगी सरकार इसी माह से करेगी वितरण
चित्र
सहारा इंडिया कार्यकर्ता पुलिस अधीक्षक से मिले, पैसा दिलाने की मांग
चित्र
जिंदा हूँ तो जी लेने दो, चलती राहों में भी पी लेने दो.....ड्यूटी में भी पी लेने दो।
चित्र
भाजपा महिला मोर्चा की तरफ से सदस्यता अभियान चलाकर की गई बैठक
चित्र