देख सखी री ! साजन आये,

 "संयोग-वियोग"

देख  सखी री ! साजन आये, 

दूर विरह करि मन लजिआये l

कछु इत ताके कछु उत ताके, 

कछु  मन अतिहिं मनोहर लागे l

नयनन ते कछु कछु ऋषियाय , 

मनही ते ह्वै  मन अति  हर्षाय l

कुहू - कुहू  कोयल की  बानी, 

कछु भावे कछु अंतर आनी l

आग विरह मन जब झुलसावे, 

पिय बानी स्मृति अति आवे l

शीतल चाँद  उगलता आग, 

पिय बिन काली लगती रात l


देख   सखी ! मनुहारी  गाये, 

बिन प्रियतम के कछु न भाये l



रश्मि पाण्डेय

बिंदकी, फतेहपुर

Popular posts
बुंदेलखंड जन अधिकार पार्टी ने जिलाध्यक्ष हनुमान प्रसाद दास राजपूत को विधानसभा बांदा सदर से प्रत्याशी किया घोषित,
चित्र
उत्तर प्रदेश फ्री स्मार्ट फोन और टैबलेट योजना 2021: इंतजार खत्म, योगी सरकार इसी माह से करेगी वितरण
चित्र
सहारा इंडिया कार्यकर्ता पुलिस अधीक्षक से मिले, पैसा दिलाने की मांग
चित्र
जिंदा हूँ तो जी लेने दो, चलती राहों में भी पी लेने दो.....ड्यूटी में भी पी लेने दो।
चित्र
भाजपा महिला मोर्चा की तरफ से सदस्यता अभियान चलाकर की गई बैठक
चित्र