अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद बजरंग दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष का बयान

 अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद बजरंग दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष का बयान



फतेहपुर।अंतर्राष्ट्रीय अध्यक्ष अंतर्राष्ट्रीय हिन्दू परिषद् राष्ट्रीय बजरंग दल डॉ प्रवीण तोगड़िया का बयान केंद्र सरकार जल्द से जल्द बनाये जनसँख्या कानून यूपी में सरकार बनेगी हिन्दुओं की जो सीएम बनेगा वह होगा हिन्दू हनुमान भक्त सीएम बनेगा यह राम भक्त सीएम बनेगा , सीएम तो राम भक्त या हनुमान भक्त ही बनेगा। 

इस बार के चुनाव में मिलेंगी 412 सीटें सीट अगर भाजपा की आएगी तो राम भक्त होगा , अखिलेश की सीट आएगी तो हनुमान भक्त , जिनके पुरखों ने मुगलों के सामने झुककर इस्लाम नहीं स्वीकारा वहीँ हमारे महंत जी हैं वही अखिलेश यादव हैं।  सभी हिन्दू जिन्होंने इस्लाम नहीं स्वीकारा वह दिल के टुकड़े हैं कोई राइट है कोई लेफ्ट है। राजनीत में सब संम्भव होता है। 

देश की जनसँख्या 140 करोड़ अस्थिर रहेगी पर परिवर्तन यह आएगा की 100 करोड़ हिन्दू घटकर 10 साल बाद 95 करोड़ , फिर 85 करोड़ और 50 साल बाद 45 करोड़ रह जाएगा।  140 करोड़ की  जनसँख्या में हिन्दू 50 करोड़ जाएगा निचे और मुसलमानो की जनसँख्या की वृद्धि दर 2.4 जो की ढाई है हिन्दू पति पत्नी पौने दो बच्चा पैदा करेगा मुसलमान ढाई करेंगे , मुसलमानो की जनसह्य जो 20 करोड़ है वह 50 करोड़ हो जाएगा , भारत अफगानिस्तान बनेगा , अफगानिस्तान की राजधानी काबुल नहीं कानपूर होगी। 

केंद्र सरकार से प्रवीण तोगड़िया ने की मांग और कहा की केंद्र सरकार दो बच्चों से ज्यादा बच्चे पैदा करने पर नियंत्रण लगाने का बनाये कानून , कानून बनने के बाद दो बच्चों से ज्यादा पैदा करने पर उनको अन्न नहीं , सरकारी बच्चों में उनके बच्चों को फ्री शिक्षा नहीं , सरकारी हॉस्पिटल में उन्हें फ्री इलाज नहीं , सरकारी गवर्नमेंट नौकरी नहीं ,जिसे सरकार तत्काल लागू करे ताकि हिन्दू भारत में अल्पसंख्यक न बने। 

केंद्र सरकार पर हमला करते हुए कहा की 10 सालों में किसानो को फसल का दाम नहीं मिला , जिसके कारण किसानो को 45 लाख करोड़ नहीं मिला और इस समय किसानो के ऊपर 17 लाख करोड़ कर्ज है अगर किसानो को फसल के दाम मिलते तो कर्ज नहीं होता 

प्रवीण तोगड़िया ने केंद्र सरकार से किसानो के लिए एमएसपी कानून बनाने की मांग , यह व्यवस्था पहले आणि चाहिए थी जो की नहीं आई इसलिए  हमने कहा फसल हमारा दाम तुम्हारा नहीं चलेगा नहीं चलेगा फैसला हमारा दाम हमारा यही चलेगा यही चलेगा यह भरता में करना ही होगा। 

किसानो के तीनो बिल को वापस लेने पर किये गए सवाल पर कहा की यह नरेंद्र भाई से पूछिए मैं उनका प्रवक्ता नहीं पहले दोस्ती थी लेकिन आज कल बातचीत होती नहीं हमारा मेरे खेत से सब्जी आती थी वह घर आकर खाते थे , हमारा रिश्ता एक साल का नहीं था 25 से 30 साल का था। मैं छोटा सेवक हूँ जो की मैं आपलोगों के साथ बैठा हूँ देश का सेवक 100  एकड़  के बंगले में हैं अब यह अंतर हो गया है।