तुम उतरकर रूह में,

 "

                "कविता"


तुम उतरकर रूह में, 


              हर अश्क में बनकर बसे l

ज़िंदगी के रूप में

               तुम ज़िंदगी बनकर हँसे l

तुम कमल की लालिमा, 

                लेकर बसे हो कपोल में l

ले रूप अधरों का तुम्हीं, 

               मुस्कान बनकर हो सजे l

गहराइयों के साथ में, 

                 गहराइयाँ देकर मुझे l

देकर चमक रवि-रश्मि का, 

                  अम्बर में चमकाया मुझे l

दे झनक झरने से तुमने, 

                हिय तार को झंकृत किया l

दे दे के भावुकता मुझे ,

                कविता बना तुमने दिया l

भाव की गहराई भी, 

                हिय में बसा तुमने दिया l

लो आज मैं भी बन गयी, 

                 जो रूप तुमने दे दिया l








रश्मि पाण्डेय 

बिंदकी फतेहपुर