चाल,चरित्र और चेहरे में राम जी के दर्शन नशा मुक्ति का मंत्र...ज्योति बाबा

 चाल,चरित्र और चेहरे में राम जी के दर्शन नशा मुक्ति का मंत्र...ज्योति बाबा 



विश्व शांति व नशा मुक्त जीवन के लिए प्रभु राम का चरित्र एक अनुकरणीय आदर्श उदाहरण...ज्योति बाबा 

प्रभु राम मानवीय संवेदना और नैतिकता के हर युग के वटवृक्ष हैं...ज्योति बाबा 


रामनवमी मर्यादा पुरुषोत्तम का दिन,जो भारतीय हिंदू सनातन संस्कृत का एक आधार स्तंभ है मैंने जिन राम रूप में प्रभु राम जी को देखा और समझा है वह अनुकरणीय है आज युवा जन चित दिन पर दिन नशा का लती बनकर परिवार को विखंडित कर रहा है भारत देश को विश्व गुरु की राह में बनने में बड़ी बाधा  बन रहा है नशा के दुष्प्रभाव के चलते राम-राम की रट मुख से तो लगा रहा है लेकिन उनके अनुकरणीय आदर्शों को अपने जीवन से ओझल कर रहा है परिणाम स्वरूप वह सब हमारी नई पीढ़ी के नैतिक चरित्र,खानपान और मानवीय प्रकृति पर साफ परिलक्षित हो रहा है रामनवमी का पवित्र दिन हमारे मन के इसी दरिद्रीकरण को रोकने में रामबाण सिद्ध होती है जहां आज का नया मनुष्य अधिक उपार्जन या अधिक क्षमता को ही ईश्वर मान बैठा है रामनवमी मानव मात्र के कल्याण हेतु सार्वभौम जीवन दृष्टि की अच्छाई बांटने का पर्व है प्रभु राम मानवीय संवेदना और नैतिकता के हर युग के वटवृक्ष हैं आज भी राम बनना नामुमकिन नहीं है हां,इस राह में मुश्किलें जरूर आती हैं हर युग में राम हैं हर युग में राम को कष्ट मिलता है और तय है कि आगे भी मिलेगा,राम का त्रेतायुग हो या हमारा आज का कालखंड कलयुग,राम का मार्ग कष्ट का मार्ग है संघर्ष का मार्ग है ऐसा नहीं हो सकता कि आप चारों ओर फैली नशे की फसल को मिटाने का अच्छा प्रयास करें लेकिन वह सहजता से हो जाए यानी के कुछ राष्ट्रहित में करने के लिए कष्ट उठाना ही होगा,बीज अगर टूटेगा नहीं तो अंकुरित कैसे होगा,बादल अगर टूटेगा नहीं तो बारिश कैसे होगी,मिट्टी अगर नहीं टूटेगी तो वह इतनी सारी फसलें कैसे देगी,इसीलिए टूटना जरूरी है टूटने से हम दुखी जरूर हो मगर निराश नहीं और अक्सर आज का किशोर युवा निराशा का हल नशे की अंधी गलियों या आत्महत्या में खोज रहा है। 

रामनवमी हमारा एक गौरव दिवस है जीवन में ऊर्जा पूर्ण संकल्पों को धारण करने का दिवस है अपनी नशे की कुरीतियों को त्यागने का दिवस है दृढ़ इच्छा शक्ति बढ़ाने व आत्मगौरव जागृत करने का दिवस है  प्रभु राम जी हमारे शलाका व युगपुरुष हैं असीम आदर का भाव रहने के कारण हम पूरी निष्ठा के साथ उनका जन्मदिन रामनवमी मनाते हैं राम विश्व शांति प्रेम कल्याण हेतु जीवंत इतिहास पुरुष हैं उन्होंने मन वचन और कर्मों से आगे जाकर एक संपूर्ण विश्व के लिए उत्कृष्ट आदर्श स्थापित किया है असल में हम किसी को क्यों याद करते हैं,हमारा मन तांबे के बर्तन की तरह है उसे रोज मांजना होता है अगर हम उसे रोज माजेगे तो चमकेगा,नहीं तो काला पड़ जाएगा किसी भी व्यक्तित्व या अच्छी बातों का स्मरण दरअसल मन को मांजना ही है हर तरफ खड़ी होती नशा युक्त की अविवेकी भीड़ ही मानव समाज को सर्वाधिक नुकसान पहुंचा रही है ऐसे समय रामनवमी हमारे भीतर सोई अध्यात्म शक्ति को जागृत कर समूचे जनशक्ति का बिना किसी भेदभाव के कल्याण करती है रामनवमी आदर्शों की प्रतिष्ठापना का दिवस है पूरे विश्व के लिए इसका यही संदेश है कि हम एक नशा मुक्त इंसान बने आदर्श हमारे कर्मों में दिखाई दे और ऐसा करने पर ही हम अपने बेटे,पिता,पति सभी में राम की छवि सच्चे अर्थों में देख पाएंगे,संत तुलसी दास जी भी तो यही कहते हैं कि रघुवर छबि के समान रघुवर छवि बनियां ऐसे पुरुषोत्तम श्री राम जी को मैं कोटिशा: प्रणाम करता हूं।

Popular posts
चेहरे पर मुहासे के दाग होने की वजह से 8 जगहों से टूटा रिश्ता हीनभावना से ग्रसित,युवती ने फांसी लगाकर की आत्महत्या
चित्र
लगभग 5 करोड़ रुपए की अष्टधातु की मूर्ति के साथ एक आरोपी गिरफ्तार
चित्र
एंटी करप्शन टीम ने रिश्वत लेते बाबू को रंगेहाथ पकड़ा, एरियर निकालने के लिए मांगे थे 14 हज़ार रुपये
चित्र
उत्तर प्रदेश में मुफ्त राशन वितरण व्यवस्था में बदलाव, अब राशनकार्ड धारकों को चावल ज्यादा और गेहूं कम मिलेगा
चित्र
अतिक्रमणकारियों पर होगी सख्त कार्रवाई--- एसडीएम बिंदकी
चित्र