साक्षर प्रधान गाॅव की शान के तहत जिलाधिकारी अनुराग पटेल की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई बैठक

 साक्षर प्रधान गाॅव की शान के तहत जिलाधिकारी अनुराग पटेल की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई बैठक



रिपोर्ट - श्रीकांत श्रीवास्तव 



बांदा - साक्षर प्रधान गाॅव की शान की बैठक जिलाधिकारी अनुराग पटेल की अध्यक्षता में कलेक्टेट सभाकक्ष में सम्पन्न हुई। जिलाधिकारी ने अवगत कराया कि जनपद में 58 निरक्षर महिला/पुरूष प्रधानों को साक्षर बनाने की पहल के तहत 58 जिला स्तरीय अधिकारियों को साक्षर बनाने की जिम्मेदारी सौंपी गयी थी। 01 दिसम्बर, 2021 से पठन-पाठन का कार्य प्रारम्भ हो गया था जिसमें 60 दिनों में निरक्षर प्रधानों को साक्षर बनाने का लक्ष्य रखा गया था जो विधानसभा सामान्य निर्वाचन-2022 को दृष्टिगत रखते हुए लक्ष्य को प्राप्त करने में थोडा विलम्ब हुआ है, लेकिन अब सब लोग पुुनः इस कार्य को रूचि पूर्वक करना प्रारम्भ कर दें और कम से कम माह में दो बार अपने गोद लिये गये ग्राम प्रधान के यहां विजिट कर पठन-पाठन के विषय में जानकारी प्राप्त करें तथा सम्ताह में कम से कम दो बार टेलीफोन से वार्ता कर उन्हें लगातार मोटीवेट करते रहें।

जिलाधिकारी अनुराग पटेल ने 58 अधिकारियों की विस्तार पूर्वक पठन-पाठन के विषय में जानकारी प्राप्त कर दिशा-निर्देश देते हुए कहा कि 01 अप्रैल से पुनः शिक्षण का कार्य प्रारम्भ होे जाए और टेलीफोेन के माध्यम से प्रधान जी सेे वार्ता कर पठन-पाठन के विषय में पूछते रहें। उन्होंने कहा कि हर हाल में 25 अप्रैल, 2022 तक उपरोक्त 58 प्र्रधानों को साक्षर कर एक मिशाल कायम की जाए क्योंकि यह बहुत ही पुनीत कार्य है। आप सभी लोंगो को अन्दर से आत्म संतुष्टी प्राप्त होगी। जहां भी आप लोग रहेंगे जिन्दगी भर उपरोक्त प्रधानों द्वारा आप लोग याद किया जाता रहेगा। उन्होंने कहा कि रात-दिन पढाने वाले टीचर्स एवं प्रधान के बच्चे एवं बच्चियां, आंगनबाडी कार्यकत्रियों के साथ-साथ उपरोक्त 58 अधिकारियों को 30 अप्रैल, 2022 को लक्ष्य को प्राप्त कर प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया जायेगा एवं भारत सरकार से भी सम्मानित कराया जायेगा। उन्होंने समस्त अधिकारियों से उम्मीद किया कि समस्त अधिकारी चढ-बढ कर इस पुनीत कार्य में हिस्सा लेंगे और इस कार्य को सफल बनायेंगे। जिलाधिकारी ने कुछ इस अंदाज में कहा कि स्वान्तः सुखाय से तात्पर्य है कि इस कार्य से आप लोंगो को आत्मीय सुख प्राप्त होगा। प्रधानों को साक्षर बनाने के लिए पूर्ण तन्मयता के साथ  कार्य करें ताकि सभी प्रधान साक्षर हो सके तथा अपने सभी कार्य स्वयं कर सकें जिससे इनसे कोई फर्जी कार्य कराने में सफल न हो सके।

टिप्पणियाँ
Popular posts
सरकारी जमीन पर मस्जिद निर्माण से तनाव, हिंदू संगठनों ने की महापंचायत
चित्र
सिर्फ इन लोगों को मुफ्त बिजली देगी सरकार, जानिए कैसे मिलेगा इसका लाभ
चित्र
असोथर बैंक के स्थापना दिवस पर संगोष्ठी एवं ग्राहक अभिनंदन के साथ किया गया वृक्षारोपण
चित्र
दुकानों में नेम प्लेट लगाने वाले आदेश पर सुप्रीम कोर्ट द्वारा रोक लगाने पर राहुल प्रधान की प्रतिक्रिया
चित्र
दिवंगत शिक्षामित्रों की स्मृति में श्रद्धांजलि सभा 25 जुलाई को
चित्र