20 वर्षीय युवती छेड़खानी व ब्लैकमेलिंग से परेशान होकर फांसी लगाकर दी जान

 20 वर्षीय युवती छेड़खानी व ब्लैकमेलिंग से परेशान होकर फांसी लगाकर दी जान



सुसाइड नोट पर एक युवक पर छेड़खानी और ब्लैक मेलिंग का लगाया आरोप


 रिपोर्ट - श्रीकांत श्रीवास्तव 


बांदा -  लड़कियों को छेड़खानी से बचाने के लिए सरकार द्वारा कई योजनाएं चलाई जा रही हैं। इसके बाद भी ग्रामीण इलाकों में लड़कियां असामाजिक तत्वों का शिकार बन  जाती हैं। ऐसा ही एक मामला जनपद बांदा का है। जहां एक लड़के द्वारा की जा रही छेड़खानी व ब्लैकमेलिंग से परेशान होकर युवती को मजबूर होकर मौत को गले लगाना पड़ा। मरने से पहले युवती ने एक सुसाइड नोट भी छोड़ा है।

घटना देहात कोतवाली अंतर्गत का  है। जहां पर 20 वर्षीय एक युवती  ने रविवार की रात अपने कमरे में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। मृतका के मामा  का कहना है कि घटना के समय घर पर मृतका के अलावा उसकी भाभी थी मां और बड़े भाई रिश्तेदारी में गए हुए थे।

सवेरे घटना की जानकारी होने पर पुलिस को जानकारी दी गई घटनास्थल पर ही मृतका ने एक सुसाइड नोट भी छोड़ा है जो अपनी ही कॉपी में उसने लिखा है। युवती ने इसमें गांव के एक युवक का उल्लेख करते हुए लिखा है कि वह उसे परेशान करता था। उसने मेरे साथ क्या-क्या नहीं किया बता नहीं सकती इसीलिए मजबूरन मुझे आत्महत्या करनी पड़ रही है।

वही इस बारे में क्षेत्राधिकारी नगर राकेश कुमार सिंह ने बताया कि देहात कोतवाली क्षेत्र के करबई गांव में एक युवती द्वारा आत्महत्या किए जाने की सूचना मिलने पर शव को कब्जे में लेकर पंचायत नामा के बाद पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है। आत्महत्या के कारणों की जांच की जा रही है। इस बीच क्षेत्राधिकारी नगर राकेश कुमार सिंह ने अपना संशोधित वक्तव्य जारी किया है।

जिसमें बताया गया है कि शव का पंचायत नामा करते समय थाने के एसआई उपेंद्र कुमार को मौके पर एक कॉपी मिली है।जिसमें 6 पृष्ठों में मृतका ने सुसाइड नोट लिखा है। इस पत्र में गांव के एक लड़के को आत्महत्या के लिए जिम्मेदार ठहराया गया है। इसके लिए परिवारी जनों से तहरीर मिलने के बाद मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई की जाएगी।