प्रसव पूर्व जांच की सुविधा जिले में मिलेगी कल

 प्रसव पूर्व जांच की सुविधा जिले में मिलेगी कल



गर्भवती का महिला विशेषज्ञ अथवा एमबीबीएस चिकित्सक प्रसव पूर्व करेंगे जांच


मातृ एवं शिशु मृत्युदर में कमी लाने के लिये उठाया गया बडा कदम 


फतेहपुर। महीने में अब दो बार प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान पीएमएसएसए दिवस का आयोजन किया जायेगा। यह अभियान हर माह की नौ और 24 तारीख को होगा। किन्तु इस बार 24 अप्रैल को रविवार का अवकाश होने के कारण 25 अप्रैल को प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व क्लीनिक के रूप में मनाया जायेगा। यह जानकारी मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 राजेंद्र सिंह ने दी। 

सीएमओ ने बताया कि मातृ शिशु मृत्यु दर में कमी लाने के लिये नौ तारीख को जनपद की करीब 17 स्वास्थ्य इकाइयों पर प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान दिवस का आयोजन पहले से ही हो रहा है। इससे वंचित गर्भवती के प्रसव पूर्व जांच के लिए सरकार ने प्रधानमंत्री सुरक्षित अभियान को महीने में दो बार आयोजित करने का निर्णय लिया है। अब हर माह की 24 तारीख को जनपद के सभी प्राथमिक संदर्भन इकाई एफआरयू स्तर के स्वास्थ्य केंद्र्रों पर प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व क्लीनिक का आयोजन अप्रैल माह से शुरू किया जायेगा। 

अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी आरसीएच डा0 एसपी जौहरी ने बताया कि केंद्र पर नियमित जांच और उच्च जोखिम युक्त गर्भवस्था से चिन्हित लाभार्थी को प्रसव पूर्व जांच एएनसी कर मातृ शिशु मृत्यु दर में कमी लायी जा सकती है। गर्भवती की नियमित निशुल्क जांच और प्रसव प्रश्चात उचित देखभाल की सुविधा देने के लिये आयोजन का विस्तार किया जा रहा है। जिले मे हर माह की नौ तारीख को सभी स्वास्थ्य केंद्रों पर आयोजित किये जाने वाले पीएमएसएसए दिवस के साथ अब हर माह की 24 तारीख को एफआरयू पर प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व क्लीनिक को विस्तारित किया गया है। 


इनसेट --


यहां होगा पीएमएसएसए दिवस 


सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र खागा, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बिंदकी, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र हथगाम, जिला महिला चिकित्सालय 


फतेहपुर। यह सेवायें मिलेगी निःशुल्क जिला परामर्शदाता मातृ स्वास्थ्य आलोक कुमार ने बताया कि इस दिवस पर स्वास्थ्य इकाइयों पर समस्त गर्भवती की प्रसव पूर्व जांच एएनसी जैसे हीमोग्लोबिन, शुगर, यूरिन जांच, ब्लड ग्रुप, एचआईवी, सिफलिस, वजन, ब्लड प्रेशर और अन्य जांच निशुल्क सुविधा मौजूद है। इसके साथ ही टिटनेस-डिप्थीरिया टीडी का टीका, आयरन, कैल्शियम और आवश्यक दवायें मुफत दी जायेगी। एचआरपी युक्त महिलाओं की पहचान प्रबंधन और सुरक्षित संस्थागत प्रसव के लिये प्रेरित किया जायेगा। इसके अलावा पोषण परिवार नियोजन तथा प्रसव स्थान के चयन के लिये परामर्श दिया जायेगा।