पाकिस्तान में रहने वाला प्रेमी नामदान लेकर साधना किया तो उसको अंतर में दिखाई और सुनाई दिया

 पाकिस्तान में रहने वाला प्रेमी नामदान लेकर साधना किया तो उसको अंतर में दिखाई और सुनाई दिया



धन-संपत्ति मान प्रतिष्ठा सब यहीं छूट जाएगा इसलिए जो असल चीज है उसको पकड़ो और साधना करके निकल चलो


इंदौर (मध्य प्रदेश)।नामदान रूपी अमोलक रूहानी दौलत देकर दिव्य चक्षु, शिव नेत्र खोल कर अंतर में दिव्य लोकों का जलवा जीते जी दिखलाने वाले, सम्पूर्ण मानव जाति का भला, कल्याण चाहने वाले, इस समय के पूरे पावर वाले पहुंचे हुए त्रिकालदर्शी समर्थ सन्त सतगुरु उज्जैन वाले बाबा उमाकान्त जी महाराज ने इंदौर आश्रम पर 29 मार्च 2022 सायंकाल में दिए व यूट्यूब चैनल जयगुरुदेवयूकेएम पर प्रसारित संदेश में बताया कि एक उज्जैन के जैन साहब है। वहां के (विदेश में) प्रेमियों ने फैक्ट्री पर (महाराज जी का सतसंग व नामदान) कार्यक्रम रखा था। उसी में काम करने वाले एक (पाकिस्तानी) प्रेमी ने बात को पकड़ लिया, लग गया विश्वास के साथ करने में। अंदर में उसको (दिव्य/रूहानी जलवा) दिखाई और सुनाई पड़ा। उज्जैन में बड़ा कार्यक्रम होने वाला था। तो उसने एक अन्य प्रेमी से गुजारिश कि की अगर आप हमको वहां (उज्जैन) पहुंचा दो बाबा जी के पास तो समझो लो आपने हमको जन्नत पहुंचा दिया। हमको बहुत सुरूर सवार हुआ, बहुत मजा-आनन्द मिला। जो बाबा साहब बता कर के गए थे, वह मैं रोज करता हूं। एक बार मुझे ले चलो। लोगों ने बहुत कोशिश किया लेकिन बिचारा पहुंच नहीं पाया।


*पाकिस्तान अगर अपने बड़े भाई भारत से हाथ मिला ले तो और भी ताकतवर हो जाएगा*


कारण क्या है? जो कभी भारत का हिस्सा हुआ करता था, छोटा भाई था, अब वह अलग हो गया जिसको पाकिस्तान कहते हैं। नाम तो रखा पाक का स्थान लेकिन उन लोगों की रवैया, सोच दूसरी हो गई। अब भी अगर छोटा भाई पाकिस्तान बड़े भाई भारत से हाथ मिला ले तो वह भी ताकतवर हो जाएगा। लेकिन कुछ लोग ऐसे होते हैं जो तिफरका पैदा करते हैं और करते चले जा रहे हैं।


*पाकिस्तान के एक प्रेमी ने नामदान लेकर साधना किया तो उसको अंतर में दिखाई, सुनाई दिया*


वह पाकिस्तान का रहने वाला था। वीजा नहीं मिला तो रह गया। जब बाकी लोग कार्यक्रम में आए तो बताये कि वहां तो लोग अभ्यास ध्यान भजन सिमरन करते हैं लोग। समझो, कोई कहीं भी रहे, ऐसा आसान तरीका है, थोड़ा सा पहरेज करके कहीं भी कर सकता है। यही ठोस, असली चीज है बाकी दुनिया तो नकल है। यह कोई काम की नहीं है। एक दिन छूट ही जाने वाली है।


*धन-संपत्ति मान प्रतिष्ठा सब यहीं छूट जाएगा इसलिए जो असल चीज है उसको पकड़ो और साधना करके निकल चलो*


पहले समय पूरा होने पर ही शरीर छूटता था लेकिन इस समय घर से आदमी निकले तो कोई गारंटी नहीं है कि वापिस आ जाएगा। जो बड़ी-बड़ी चीजें लोग बढ़ाएं, किये, धन-संपत्ति मान सम्मान किसी का साथ नहीं गया तो आपका साथ कैसे जाएगा? इसलिए थोड़ा समय इसमें निकालना।


*सन्त उमाकान्त जी के वचन*


मौत को हमेशा याद रखो क्योंकि एक दिन सब की आती है। कर्मों की सजा से आज तक कोई बच नहीं पाया इसलिए अच्छे कर्म करो। सच्चे महात्मा कभी किसी को धोखा नहीं देते। सच्चे गुरु से रास्ता दिलाकर बच्चों को भी भजन, इबादत करावें। जहरीले कीड़े, जहरीली हवा से होने वाले रोग तो दवा से ठीक हो सकते है लेकिन किये हुए गलत कर्मों को सेवा और भजन से ही ठीक किया जा सकता है।