भाई भतीजावाद, कौमवाद, आतंकवाद ये जितने भी वाद है भारत देश और मनुष्य के लिए बड़ी खतरनाक चीज़ पैदा होती जा रही, इनसे दूर रहो

 भाई भतीजावाद, कौमवाद, आतंकवाद ये जितने भी वाद है भारत देश और मनुष्य के लिए बड़ी खतरनाक चीज़ पैदा होती जा रही, इनसे दूर रहो



अगर इन वाद के चक्कर में मनुष्य शरीर छूट गया तो दुबारा मिलना बड़ा मुश्किल, कर्म खराब होने पर करोड़ों वर्षों तक तकलीफें झेलनी पड़ेगी


सूरत (गुजरात)।अज्ञानता में स्वास्थ्य का नाश कर देने वाली वस्तुओं को स्वास्थ्यवर्धक मानकर उनका सेवन कर क्षणिक सुख भोग कर दीर्घ काल तक कमजोरी, बीमारियों और तकलीफों को मजबूरन बर्दाश्त करने वाली नई-पुरानी पीढ़ी को सच्ची बात बता कर बचाने वाले, लोक और परलोक दोनों बनाने वाले, देश और देशवासियों के पक्के हितैषी, सिस्टम में घर कर चुकी संस्थागत समस्याओं को उजागर करने और उनसे सतर्क करने वाले महान समाज सुधारक, अव्वल दर्जे के देशभक्त, अपने आप को सबका सेवक मानने वाले, इस समय के पूरे पहुंचे हुए महात्मा फ़क़ीर जो उस मालिक प्रभु से मिले हुए हैं, ऐसे समर्थ सन्त सतगुरु उज्जैन वाले बाबा उमाकान्त जी महाराज ने 7 जून 2022 को सूरत (गुजरात) में दिए व यूट्यूब चैनल जयगुरुदेवयूकेएम पर लाइव प्रसारित संदेश में बताया कि प्रेमियों! आप जातिवाद, भाई-भतीजावाद, कौमवाद, एरियावाद, भाषावाद आदि में मत पड़ो। आप अपने अंदर मानववाद, मानवता लाओ। अगर उस मालिक को आप मानते, समझते हो तो-

सियाराम मय सब जग जानी।

करहु प्रणाम जोर जुग पानी।।

सबके अंदर मालिक का रूह है। सबको अपना ही समझो।


*पक्षपात बहुत बढ़ता जा रहा है*


ये जो भाई भतीजावाद, भाषावाद, कौमवाद, आतंकवाद, माओवाद, नक्सलवाद आदि यह जो वाद बढ़ता चला जा रहा है यह मनुष्य के लिए, भारत देश के लिए बड़ा खतरनाक पैदा होता जा रहा है। थोड़ा सा दूर रहो तो आप सुरक्षित रहोगे। नहीं तो बगैर अपना काम बनाए हुए, बगैर जीवात्मा को परमात्मा तक पहुंचाए हुए अगर यह शरीर आपका बीच में किसी कारण से छूट गया फिर तो बड़ा मुश्किल होगा। जल्दी मनुष्य शरीर मिलेगा नहीं। यदि शरीर से कर्म खराब बन गए तो  लाखों-करोड़ों वर्षों तक तकलीफ झेलनी पड़ेगी।


*भ्रष्टाचार और अपराध का कारण- मांस-शराब  के सेवन से जब बदन में गर्मी आई तो मां बहन बेटी की पहचान खत्म*


आजकल देखो रोग बहुत बढ़ते जा रहे हैं। इनका कारण क्या है? खून बेमेल हो गया। क्योंकि लोग मांस, मछली, अंडा, नशे की गोलियां खाने लगे और शराब पीने लग गए। उससे खून भी बेमेल हो गया। मांस मछली खा लेने की वजह से गर्मी आई तब क्या होता है? गुस्सा क्रोध बढ़ता है। कहते हैं मेरी नजरों के सामने से हट जाओ, मेरा खून खौल रहा है। अपराध और भ्रष्टाचार का क्या कारण है? बदन में जब गर्मी आई तो पहचान नहीं पाता है कि मेरी मां है या बहन है या बेटी है। चाहे आदमी हो या औरत, जब शरीर में गर्मी आती है तो पहचान खत्म हो जाती हैं।


*आजकल इतनी बीमारियां बढ़ने का कारण*


शरीर रोगी क्यों होता है? जानवरों का मांस खाने से खून बेमेल होने से तरह-तरह की बीमारियां पैदा हो जाती है। मांस खाने से जो खून बना, खून जब बेमेल होता है तो तरह-तरह की बीमारियां हो जाती है। इसलिए मांस मछली अंडा शराब छोड़ दो।


*बाबा उमाकांत जी के वचन*


आगे हवा इतनी दूषित हो जाएगी कि सांस लेने में तकलीफ होने लगेगी।

एक समय ऐसा आएगा कि लोग गाँव छोड़कर नदियों के किनारे  चले जायेंगे।

यह मनुष्य शरीर बार-बार आपको मिलने वाला नहीं है।

सतयुग में अस्पताल, कोर्ट-कचहरी एवं जमीन में बोरिंग करने की जरूरत ही नहीं पड़ेगी। एक समय आएगा जब देश में गौ हत्या ही नहीं, किसी भी पशु-पक्षी की हत्या नहीं होगी।

Popular posts
प्रेम प्रसंग के चलते हुई हत्या परिजनों ने जताई आसंका
चित्र
आकांक्षा साहू का इलाहाबाद उच्च न्यायालय अपर समीक्षा अधिकारी ए.आर.ओ. के पद पर हुआ चयन
चित्र
राजस्थान प्रदेश के जनपद जालौर में मासूम दलित छात्र की हत्या के संबंध में भीम आर्मी मंडल अध्यक्ष ने जिलाधिकारी के माध्यम से राष्ट्रपति को ज्ञापन
चित्र
मुख्य विकास अधिकारी की अध्यक्षता में जन सुविधा केंद्र के संचालन हेतु मुद्रा लोन दिए जाने के संबंध में उचित दर विक्रेताओं के साथ बैठक संपन्न
चित्र
बेखौफ बदमाशों ने ई-कार्ड कोरियर आफिस में तमंचे के बल पर लूटे 18 लाख 81 हजार
चित्र