पिघल रही है ज़िन्दगी,

 "संगीत"

पिघल रही है ज़िन्दगी, 


                    तपन से वक्त की। 

जान कर अनजान हैं, 

                      सो रहे हैं सभी  । 

सोंचती अहर्निश, 

                      काम है बहुत अभी। 

बांध वक्त ने दिया, 

                     ख़्वाब हैं सप्तरंगी  । 

पर हवा है चल रही, 

                      बेताब है ज़िन्दगी  । 

बदल रहा है करवटें, 

                       कल्पना-शिशु यहीं  । 

मचल रही उमंग है, 

                       तरंग भी  है  तैरती  । 

भावना की धार है, 

                        जि़न्दगी ये सार है। 

स्नेह में मैं पल रही,    

                       बन हवा मैं बह रही।                                                                              

जी रही संगीत बन, 

                         ख़्वाब को संजो रही। 


रश्मि पाण्डेय

बिन्दकी फतेहपुर

Popular posts
सदर कोतवाली के अंतर्गत राधा नगर चौकी क्षेत्र में "सीमा क्लीनिक" नाम का अदौली रोड में डॉक्टर ने गर्भपात करने की खोल रखी है मौत की दुकान
चित्र
नगर पालिका बांदा की घोर लापरवाही आई सामने,
चित्र
पत्रकार की बाइक का बदौसा थानाध्यक्ष ने किया चालान पत्रकार ने पुलिस अधीक्षक को दिया लिखित शिकायत पत्र
चित्र
डायल 112 पीआरबी कर्मियों के द्वारा जंगल में हाथ पैर बांध कर फेंके गए युवक को बंधन से कराया मुक्त
चित्र
लेखपाल की लापरवाही के चलते दबंग पूर्व ग्राम प्रधान ने अपने कार्यकाल में तालाब पर अवैध रूप से कब्जा कर बनवाया अपना मकान,प्रशासन दबंग प्रधान के सामने है मौन
चित्र