सरस्वती बालिका विद्या मंदिर इंटर कॉलेज केन पथ में किशोरी स्वास्थ्य मंच का किया गया आयोजन

 सरस्वती बालिका विद्या मंदिर इंटर कॉलेज केन पथ में किशोरी स्वास्थ्य मंच का किया गया आयोजन 




बांदा - सरस्वती बालिका विद्या मंदिर इंटर कॉलेज केन पथ में किशोरी स्वास्थ्य मंच का आयोजन किया गया कार्यक्रम की शुरुआत विशिष्ठ अतिथि द्वारा  फीता काटकर तथा दीप प्रज्ज्वलेन से हुई।

किशोर स्वास्थ्य परामर्श दाता श्री चंद्रेश कुमार गुप्ता ने बताया कि सन 2013 से किशोर और किशोरी स्वास्थ्य कार्यक्रम की शुरुआत जिला चिकित्सलय कमरा नंबर 15 तथा महिला चिकित्साल्य कमरा नंबर 28 से जिले में हुई थी।जिसमे प्रत्येक माह लगभग 350 किशोर किशोरी परामर्श के लिए आते है।पूरी आबादी का चौथाई हिस्सा किशोरों की होती है।किशोरावस्था मनुष्य के जीवन का बसंतकाल माना गया है। यह काल दस से उन्नीस वर्ष तक रहता है, परंतु किसी किसी व्यक्ति में यह बाईस वर्ष तक चला जाता है। इस  काल में सभी प्रकार की मानसिक शक्तियों के विकास का समय है। भावों के विकास के साथ साथ बालक की कल्पना का विकास होता है। उसमें सभी प्रकार के सौंदर्य की रुचि उत्पन्न होती है और बालक इसी समय नए नए और ऊँचे ऊँचे आदर्शों को अपनाता है। बालक भविष्य में जो कुछ होता है, उसकी पूरी रूपरेखा उसकी किशोरावस्था में बन जाती है। जिस बालक ने धन कमाने का स्वप्न देखा, वह अपने जीवन में धन कमाने में लगता है। इसी प्रकार जिस बालक के मन में कविता और कला के प्रति लगन हो जाती है, वह इन्हीं में महानता प्राप्त करने की चेष्टा करता और इनमें सफलता प्राप्त करना ही वह जीवन की सफलता मानता है। जो बालक किशोरावस्था में समाज सुधारक और नेतागिरी के स्वप्न देखते हैं, वे आगे चलकर इन बातों में आगे बढ़ते है।

किशोरी परामर्शदाता वंदना तिवारी ने बताया कि किशोर बालक या बालिका सदा असाधारण काम करना चाहता है। वह दूसरों का ध्यान अपनी ओर आकर्षित करना चाहता है। जब तक वह इस कार्य में सफल होता है, अपने जीवन को सार्थक मानता है और जब इसमें वह असफल हो जाता है तो वह अपने जीवन को नीरस एवं,अर्थहीन मानने लगता है। किशोर बालक के डींग मारने की प्रवृत्ति भी अत्यधिक होती है। वह सदा नए नए प्रयोग करना चाहता है। इसके लिए दूर दूर तक घूमने में उसकी बड़ी रुचि रहती है।

कार्यक्रम में किशोरियों को चार्ट पेपर देकर किशोरावस्था में होने वाले बदलावों के टॉपिक पर चित्राकाल कराई गई तथा प्रथम द्वातीय तृतीय आने वाले छात्राओं को पुरस्कार वितरण किया गया तथा प्रश्नोत्तरी मैं सही जवाब देने वाली छात्राओं को पेन वितरित किया गया।आशाओं तथा एएनएम अंजुम निशा जी द्वारा छात्राओं का हीमोग्लोबिन टेस्ट किया गया खून की कमी वाली छात्राओं को जिला अस्पताल रेफर कर आयरन की गोली खाने तथा पौष्टिक आहार खाने की सलाह दी गई।

टिप्पणियाँ
Popular posts
विकास को 7 बार किस सांप ने काटा? सामने आई सच्चाई, अफसरों ने सुलझाई सच और झूठ की पहेली
चित्र
असोथर के 45 शिक्षकों ने संकुल पद से दिया इस्तीफा, धरना प्रदर्शन करके सरकार विरोधी लगाए नारे
चित्र
सरकारी जमीन पर मस्जिद निर्माण से तनाव, हिंदू संगठनों ने की महापंचायत
चित्र
असोथर बैंक के स्थापना दिवस पर संगोष्ठी एवं ग्राहक अभिनंदन के साथ किया गया वृक्षारोपण
चित्र
विप्लवी ने असिस्टेंट कमिश्नर बन कर जनपद का नाम किया रोशन
चित्र