मानव ने प्रकृति प्रदत सुविधाओं का किया दुरुपयोग: रामाशीष

 मानव ने प्रकृति प्रदत सुविधाओं का किया दुरुपयोग: रामाशीष



फतेहपुर। सरकार और समाज को साथ मिलकर माँ गंगा को अपने पुराने स्वरूप में लाने पर चर्चा के साथ राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रकल्प गंगा समग्र की एक दिवसीय बैठक सोमवार को आर्य समाज भवन में संपन्न हुई। गंगा समग्र के राष्ट्रीय संगठन मंत्री रामाशीष ने बताया कि हमने प्रकृति प्रदत्त सुविधाओं का दुरुपयोग करना शुरू किया, परिणाम यह है कि  मानव जाति के सामने अशुद्ध जल ,जहरीली हवा के साथ कोरोना जैसी महामारी आई। उन्होंने गंगा की अविरलता और निर्मलता बनाए रखने के साथ-साथ गंगा घाटों पर आरती करने पर बल दिया, जिससे मोक्षदायिनी गंगा के प्रति आस्था के साथ लोग अपनी जिम्मेदारियों को स्वीकार करें। भारत के लोगों की जीवन रेखा गंगा, सिर्फ नदी  नहीं हैं।  गंगा की निर्मलता के लिए केंद्र सरकार नमामि गंगे के माध्यम से अच्छा प्रयास कर रही है। बड़े-बड़े शहरों में गंगा में गिर रहे गंदे पानी का सीवरेज को रोका गया, घाटों का उद्धार हो रहा है। पर हमें भी अपना दायित्व समझना होगा।रामाशीष ने यह भी बताया कि आगामी 10 से 13 फरवरी को बेगूसराय बिहार में राष्ट्रीय अधिवेशन होने जा रहा है, इस सम्मेलन में देशभर के 1000 से भी ज्यादा प्रतिनिधि शामिल होंगे।

इस अवसर पर प्रांत के सह संयोजक अजमेर सिंह, प्रांतीय सदस्य कुलदीप सिंह भदौरिया, प्रवीण पाण्डेय,जिला संयोजक अरुण सिंह,सह संयोजक संतोष तिवारी,धीरज राठौर,कपिल उपमन्यु,कमलनयन बाजपेई,  गंगा वाहिनी जिला संयोजक सुयश गौतम, सह संयोजक अंकित जायसवाल, निर्देश द्विवेदी, आलोक श्रीवास्तव, देव नारायण, वरुण तिवारी अजय कुमार, मोनू मौर्य,प्रशांत राम नारायण,वंदना द्विवेदी, अपर्णा पांडे, मंजू शुक्ला, राहुल वर्मा , सुमित द्विवेदी,उदित पांडेय,खागा संयोजक रामप्रसाद विशकर्मा,सह संयोजक राजेश, सीताराम पासवान, शेर सिंह समेत कार्यकर्ता बंधु उपस्थित रहे।

टिप्पणियाँ
Popular posts
सर्प ने सात बार काटा सपने में सांप बोला नौंवी बार साथ ले जाएंगे कोई तंत्र मंत्र नही बचा पायेगा
चित्र
बिजली करंट की चपेट में आने से वृद्ध दंपति की दर्दनाक मौत
चित्र
बिजली का पोल टूटा होने के बावजूद जेई ने दबाव बनाकर लाइनमैन से खुलवाया ट्रांसफार्मर हुआ हादसा
चित्र
उम्रकैद की सजा काटकर बाहर आये डकैत का जिंदा सांप को खाते वीडियो वायरल,पुलिस जांच पड़ताल में जुटी
चित्र
03 अभियुक्तों को हुई आजीवन कारावास व जुर्मानें की सजा
चित्र