प्राचीन चतुर्भुज मंदिर में हुआ रामकथा का आयोजन कानपुर।सरसौल कस्बा स्थित प्राचीन श्री चतुर्भुज मंदिर के प्रांगण में श्रीराम कथा का भव्य आयोजन किया गया। आयोजित कथा के तीसरे दिन कथावाचक हरिदास अंकित कृष्ण जी महाराज ने अहिल्या उद्धार की कथा का वर्णन किया। कथा वाचक में उन्होंने कहा कि अहिल्या गौतम ऋषि की पत्नी थी। गौतम ऋषि व ऋषि रानी आश्रम बनाकर निवास करते थे। उनका सिर्फ एक ही उद्देश्य था कि सब सुखी बने सभी यशस्वी बने। वह भक्ति भाव लीन रहते थे। उनके भजन भाव से देवराज इन्द्र को भय हुआ। इसी ईष्या से उन्होंने स्वयं गौतम ऋषि का वेश धारण कर माता अहिल्या के कुटिया में जाकर छुप गए। जब गौतम ऋषि गंगा स्नान के लिए चले गए तब देवराज इन्द्र ने छल पूर्वक उनकी पत्नी अहिल्या के मातृत्व को नष्ट कर दिया। ऋषि पत्नी को लगा कुछ गलत हुआ है। पर कुछ कह ना सकी। गौतम ऋषि को जब आभास हुआ कि अभी तो अर्द्धरात्रि है तो वह समझ गए कि कुछ गड़बड़ है। आश्रम में आकर अहिल्या से पूछा तो कुछ बोल न सकी। महात्मा अपने योगबल से समझ गए कि देवराज इन्द्र ने छल किया है। तब गौतम ऋषि ने अहिल्या को श्राप जा तू पत्थर की शिल बन जाओ। बहुत सालों बाद प्रभु अपनी चरण रज से अहिल्या का उद्धार कर दिया। तब अहिल्या ने भगवान श्रीराम को प्रणाम कर अपने पति लोक को प्रस्थान कर गई। सरसौल कस्बा निवासी संदीप गुप्ता ने बताया कि चैत्र नवरात्र के पावन पर्व पर बुधवार को भक्तों द्वारा कलश यात्रा निकाली गई। इसके बाद पूजा-अर्चना कर श्री राम कथा का शुभारंभ हुआ। मथुरा से आए कथावाचक हरिदास अंकित कृष्ण जी द्वारा श्री राम कथा के तीसरे दिन राम-लक्ष्मण वन गमन व अहिल्या उद्धार का वर्ण किया गया। इस अवसर पर सैकड़ों की संख्या में मौजूद भक्त श्री राम कथा को सुना।

 प्राचीन चतुर्भुज मंदिर में हुआ रामकथा का आयोजन



कानपुर।सरसौल कस्बा स्थित प्राचीन श्री चतुर्भुज मंदिर के प्रांगण में श्रीराम कथा का भव्य आयोजन किया गया। आयोजित कथा के तीसरे दिन कथावाचक हरिदास अंकित कृष्ण जी महाराज ने अहिल्या उद्धार की कथा का वर्णन किया। कथा वाचक में उन्होंने कहा कि अहिल्या गौतम ऋषि की पत्नी थी। गौतम ऋषि व ऋषि रानी आश्रम बनाकर निवास करते थे। उनका सिर्फ एक ही उद्देश्य था कि सब सुखी बने सभी यशस्वी बने। वह भक्ति भाव लीन रहते थे। उनके भजन भाव से देवराज इन्द्र को भय हुआ। इसी ईष्या से उन्होंने स्वयं गौतम ऋषि का वेश धारण कर माता अहिल्या के कुटिया में जाकर छुप गए। जब गौतम ऋषि गंगा स्नान के लिए चले गए तब देवराज इन्द्र ने छल पूर्वक उनकी पत्नी अहिल्या के मातृत्व को नष्ट कर दिया। ऋषि पत्नी को लगा कुछ गलत हुआ है। पर कुछ कह ना सकी। गौतम ऋषि को जब आभास हुआ कि अभी तो अर्द्धरात्रि है तो वह समझ गए कि कुछ गड़बड़ है। आश्रम में आकर अहिल्या से पूछा तो कुछ बोल न सकी। महात्मा अपने योगबल से समझ गए कि देवराज इन्द्र ने छल किया है। तब गौतम ऋषि ने अहिल्या को श्राप जा तू पत्थर की शिल बन जाओ। बहुत सालों बाद प्रभु अपनी चरण रज से अहिल्या का उद्धार कर दिया। तब अहिल्या ने भगवान श्रीराम को प्रणाम कर अपने पति लोक को प्रस्थान कर गई। सरसौल कस्बा निवासी संदीप गुप्ता ने बताया कि चैत्र नवरात्र के पावन पर्व पर बुधवार को भक्तों द्वारा कलश यात्रा निकाली गई। इसके बाद पूजा-अर्चना कर श्री राम कथा का शुभारंभ हुआ। मथुरा से आए कथावाचक हरिदास अंकित कृष्ण जी द्वारा श्री राम कथा के तीसरे दिन राम-लक्ष्मण वन गमन व अहिल्या उद्धार का वर्ण किया गया। इस अवसर पर सैकड़ों की संख्या में मौजूद भक्त श्री राम कथा को सुना।


टिप्पणियाँ
Popular posts
कार ने हाइवे पार कर रही महिलाओं को कुचला, चार की मौत
चित्र
चुनाव ड्यूटी में आये हरदोई का रहने वाला होमगार्ड की बिगड़ी तबियत डॉक्टर ने किया मृत घोषित
चित्र
स्ट्रांग रूम में रखे ईवीएम मशीन के सुरक्षा व्यवस्था का एसपी ने लिया जायजा
चित्र
बडौरी टोल प्लाजा में अधिवक्ता के साथ हुई लूट के साथ गुंडई करते हुए जान से मारने की धमकी दी
चित्र
विश्वकर्मा समाज से सपा गठबंधन के पक्ष मांगे वोट-रामासरे विश्वकर्मा
चित्र